Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

GES 2017: इन 5 वजहों से चर्चा में है ग्लोबल एंटरप्रेन्योर समिट

भारत और अमेरिका की संयुक्त मेजबानी में ग्लोबल इंटरप्रेन्योरशिप समिट का आयोजन किया है।

GES 2017: इन 5 वजहों से चर्चा में है ग्लोबल एंटरप्रेन्योर समिट

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप भारत पहुंच चुकी हैं। यहां वो तीनों तक चलने वाले वैश्विक इंटरप्रेन्योरशिप शिखर सम्मेलन (GES) में भाग लेंगी। ये समिट हैदराबाद में हो रहा है।

भारत और अमेरिका की संयुक्त मेजबानी में ग्लोबल इंटरप्रेन्योरशिप समिट का आयोजन किया है। साथ ही इवांका ट्रंप के इस सम्मेलन में पहुंचने से यूएस में विवाद हो रहा है। अब तक अमेरिकी राष्ट्रपति या विदेश मंत्री ही इस समिट में आए हैं।

इसे भी पढ़ें- हां, मैंने चाय बेची, पर देश नहीं बेचा: पीएम मोदी

इवांका के दौरे के अलावा भी ये समिट 5 वजहों से सुर्खियों में है...

साउथ एशिया में पहली बार ये समिट

ये समिट हैदराबाद में 28 से 30 नवंबर तक चलेगा। इसकी शुरुआत 2010 में बराक ओबामा ने की थी। पहली बार साउथ एशियाई देश में यह समिट हो रहा है। भारत और अमेरिका इस समिट का आयोजन कर रहे हैं। इसमें 127 देशों से 1500 आंत्रप्रेन्योर्स और 300 इन्वेस्टर्स समेत करीब 2000 लोग हिस्सा ले रहे हैं। समिट की अगुआई नीति आयोग कर रहा है।

पीएम मोदी इस समिट का उद्घाटन करेंगे

28 नवंबर को पीएम मोदी ग्लोबल आंत्रप्रेन्योरशिप का उद्घाटन करेंगे। इस दौरान सुषमा स्वराज, निर्मला सीतारमण और सुरेश प्रभु भी मौजूद रहेंगे। इस दौरान ट्रंप की बेटी इवांका भी शामिल होंगी।

कौन कौन होगा शामिल

मिस वर्ल्ड बनीं मानुषी छिल्लर 'दी फीमेल इन्फ्लुएंसर: एडवांसिंग वुमन्स अपॉर्च्युनिटीज इन द मीडिया इंडस्ट्री' सब्जेक्ट पर सेशन को संबोधित भी करेंगी। मिताली राज, सानिया मिर्जा और भारतीय बैडमिंटन टीम के चीफ नेशनल कोच पी गोपीचंद भी शामिल होंगे। तेलुगु एक्टर रामचरण तेजा और अदिति राव हैदरी भी इस समिट में शामिल होंगे।

पहली बार अमेरिकी राष्ट्रपति नहीं हो रहे शामिल

2010 से लेकर 2016 तक जहां-कहीं यह ग्लोबल समिट हुई, यूएस डेलिगेशन की अगुआई बराक ओबामा ने प्रेसिडेंट होने के नाते या जॉन कैरी ने विदेश मंत्री होने के नाते की। इस बार यूएस डेलिगेशन को इवांका लीड कर रही हैं। इसे लेकर अमेरिका में कॉन्ट्रोवर्सी भी हुई है। इवांका के साथ अमेरिका के 38 राज्यों से 350 लोग आए हैं।

इसे भी पढ़ें- अरविंद केजरीवाल का पीएम पर हमला, BJP देश में कर रही ISI का काम

अमेरिका से नहीं आया कोई डेलिगेशन

इस समिट में ना तो डोनाल्ड ट्रम्प आ रहे हैं और ना ही अमेरिकी विदेश मंत्री, उनकी जगह इवांका को डेलिगेशन की जिम्मेदारी दी गई है। इसी वजह से अमेरिका में कॉन्ट्रोवर्सी भी हुई है। विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कोई हाईलेवल डिप्लोमैट इवांका के साथ नहीं भेजा है।

Loading...
Share it
Top