Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हम जनता के वादों पर खरे उतरे, बीत गया देश का बुरा वक्तः नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने जनता से जो वादे किए थे हम अपने वादों पर खरे उतरे हैं।

हम जनता के वादों पर खरे उतरे, बीत गया देश का बुरा वक्तः नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अच्छे दिनों को लेकर सरकार पर निशाना साधने वालों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि देश का बुरा वक्त बीत चुका है और अच्छे दिन आ गए हैं, लेकिन कुछ लोग सरकार के कामों को धूमिल करने में जुटे हुए हैं। पीएम मोदी ने 'यूनीवार्ता' को दिए इंटरव्यू में कहा कि उनकी सरकार के आने से पहले देश बहुत बुरे दिन से गुजर रहा था और हर रोज एक नया घोटाला सामने आ रहा था। प्रधानमंत्री ने कहा कि तब सरकार सुन्न और देश हताश एवं निराश हो गया था। उन बुरे दिनों, बुरे कर्मों और बुरे कारनामों को याद किया जाए तो आपको लगेगा कि देश ने बुरे दिनों से मुक्ति पाई है। देश का बुरा वक्त बीत गया और अच्छे दिन आ गए।

RSS को मोदी का कड़ा संदेश, कहा-अल्पसंख्यकों से भेदभाव नहीं किया जाएगा बर्दाश्त

अपनी सरकार के एक साल के कामकाज पर संतोष व्यक्त करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमने जनता से जो वादे किए थे हम अपने वादों पर खरे उतरे हैं। मोदी ने कहा कि हमने स्वच्छ, पारदर्शी और दक्ष सरकार दी है। मीडिया सर्वे में भी पता चलता है कि लोगों ने हमारे एक साल के कामकाज को सराहा है। विदेश यात्राओं के दौरान उनके बयानों पर विपक्ष की प्रतिक्रिया के बारे में पूछे जाने पर मोदी ने कहा कि क्या कांग्रेस यह मानती है कि उसके स्कैम की देश के बाहर जानकारी नहीं थी, उन्हें शर्म स्कैम पर आनी चाहिए न कि उनके वर्णन पर। मोदी ने कहा कि पिछले एक दशक में पूरे विश्व में भारत के प्रति निराशा का माहौल बन गया था। देश के प्रति इस नजरिए को

बदलना जरूरी था। उन्होंने इस चुनौती को स्वीकार किया और दुनिया भर में जाकर भारत की शक्ति और संभावनाओं के बारे में संवाद करने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का संतोष है कि विश्व में भारत की तरफ देखने का नजरिया बहुत ही सकारात्मक हुआ है। इस सफलता में हमारी सरकार की नीति, रणनीति और प्रयासों का तो योगदान है ही, साथ-साथ सवा सौ करोड़ देशवासियों का बड़ा योगदान है। उनका कहना था कि जनता ने तीस साल के बाद पूर्ण बहुमत वाली सरकार चुनी और इससे निर्णायक सरकार की छवि बनी और इस वजह से दुनिया में विश्वास पैदा करने में आसानी हुई है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Share it
Top