Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इस दीवाली चीनी माल फंसा तो अटक जाएगी जिनपिंग की सांसें

चीन ने भारत को एक के बाद एक कई झटके देने की कोशिश की है

इस दीवाली चीनी माल फंसा तो अटक जाएगी जिनपिंग की सांसें
नई दिल्ली. चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान आपस में मिलेंगे तब दुनिया की नजर दोनों देश प्रमुखों की 'बॉडी लैंग्वेज' पर होगी। बहुचर्चित सड़क परियोजना के कारण पाकिस्तान के साथ मजबूती से खड़े चीन ने भारत को एक के बाद एक कई झटके देने की कोशिश की है।
भारत के एनएसजी सदस्य बनने पर एकमात्र रोड़ा बना। फिर पाकिस्तानी आतंकवादी मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कराने में भारत की मदद करने के बजाय पाकिस्तान के साथ खड़ा होकर संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के प्रस्ताव का विरोध किया। चीन के इस रवैये के कारण भारत में चीनी समान के खिलाफ चल रहे मुहिम के कारण झिंगपिंग के हाथपांव तब फूल गए जब चीन के व्यापारी और निर्माताओं ने बताया कि बड़ी संख्या में उनके माल फंसे पड़े हैं। बंदरगाहों से उसका उठान नहीं हो पा रहा। दोनों देशों के बीच पाकिस्तान के कारण आई रिश्तों में तनाव का असर व्यापार नहीं पड़े, ये सलाह लेकर शुक्रवार को जिनपिंग गोवा में ब्रिक्स की बैठक के इतर नरेंद्र मोदी से बात करने की संभावना है।
भारत को उम्मीद
रणनीतिकारों को उम्मीद है कि भारत के एनएसजी का सदस्य बनने का मामला हो या फिर जैशे-मोहम्मद के आतंकवादी मसूद अजहर के पक्ष में चीन का अड़ियल रवैया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत के बाद बीच का रास्त निकलेगा, ऐसी उम्मीद की जा रही है। यही कारण है कि ब्रिक्स देशों की बैठक से इधर जिंनपिंग और नरेंद्र मोदी की अनौपचारिक बैठक की भी खासतौर पर व्यवस्था की गई है।
चीनी माल फंसा तो सांसे अटकीं
सत्ता प्रतिष्ठान से जुड़े उच्चपदस्थ सूत्रों ने दावा किया कि चीनी माल के खिलाफ डब्लूटीओ संधि के कारण भारत सरकार की ओर से औपचारिक रूप से चीनी सामानों को लेकर ऐसी कोई नकारात्मक बात नहीं की जा सकती लेकिन जिस तरह देशप्रेम के कारण चीन पर दबाव बनाने के लिए चीनी सामानों के विरोध में स्वत:स्फूर्त आंदोलन आमलोगों ने खड़ा किया है उसी से चीन का व्यापारी हिल गया है। जिसके कारण चीनी सरकार कांप रही है। उन्होंने आंकड़े के हवाले से बताया कि भारत में त्योहारों का मौसम होने के बाद भी अगर कुछ ही दिनों में 5 हजार करोड़ रुपए का चीनी माल बाजार में फंस जाए तो इसके बड़े मायने निकाले जा सकते हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top