Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पीएम मोदी और अमित शाह पर जमकर बरसे भाजपा के ''शत्रु'', कही ये बड़ी बातें

सिन्हा ने कहा, एक वकील वित्त मंत्री बन सकता है, एक टीवी अदाकारा मानव संसाधन विकास मंत्री बन सकती है।

पीएम मोदी और अमित शाह पर जमकर बरसे भाजपा के

भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने सरकार एवं संगठन चला रही व्यवस्था को 'एक आदमी की सेना' और 'दो आदमी का शो' करार दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अध्यक्ष अमित शाह पर पहली बार सीधा हमला बोलते हुए सिन्हा ने कहा कि इसके मंत्री 'खुशामदीदों की टोली' हैं, जिनमें से 90 फीसदी को कोई नहीं जानता।

एक कार्यक्रम में अपने ‘दिल की बात' बताते हुए सिन्हा ने कहा कि किसी और ने ‘मन की बात' पेटेंट करा रखी है। आजकल ऐसा माहौल है कि या तो आप एक शख्स का समर्थन करें या देशद्रोही कहलाने के लिए तैयार रहें।

इसे भी पढ़ें- भाजपा के शत्रु ने मोदी, ईरानी, अमिताभ और सलमान समेत इन हस्तियों से पूछे ये सवाल

सिन्हा नोटबंदी और जीएसटी जैसे सरकार के आर्थिक फैसलों पर बोलने के कारण उनकी आलोचना करने वालों पर भी बरसे।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली, सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी और प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ‘‘यदि एक वकील वित्त मंत्री बन सकता है, एक टीवी अदाकारा मानव संसाधन विकास मंत्री बन सकती है और एक चाय वाला.....फिर मैं इन मुद्दों पर क्यों नहीं बोल सकता ?'

मोदी सरकार की नीतियों की अक्सर आलोचना करने वाले सिन्हा आज माकपा महासचिव सीताराम येचुरी और जदयू के बागी नेता शरद यादव सहित विपक्ष के कई शीर्ष नेताओं के साथ मंच साझा करते हुए जमकर बरसे।

इसे भी पढ़ें- 'पद्मावती' विवाद पर पीएम मोदी और बिग बी की चुप्पी पर शत्रुघ्न सिन्हा ने साधा निशाना

भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी के बहुचर्चित नारे ‘ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा' पर कटाक्ष करते हुए सिन्हा ने कहा, ‘‘आजकल हो ये रहा है कि ‘ना जियूंगा, ना जीने दूंगा।'

जदयू के बागी सांसद अली अनवर की किताब के विमोचन के अवसर पर सिन्हा ने अपने विरोधियों के इस दावे को खारिज कर दिया कि वह मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कभी ऐसी आकांक्षा नहीं थी।

मोदी सरकार के मंत्रियों का मजाक उड़ाते हुए सिन्हा ने कहा, ‘‘उनमें से 90 फीसदी को कोई नहीं जानता। उन्हें भीड़ में कोई नहीं पहचानेगा। वे खुशामदीदों की टोली हैं। वे वहां कुछ बनाने के लिए नहीं हैं, बस बने रहने की कोशिश में लगे हैं।'

Loading...
Share it
Top