Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मिशन शक्ति : कुछ ही दिनों में खत्म हो जाएगा अंतरिक्ष में फैला मलबाः DRDO

डीआरडीओ चीफ सतीश रेड्डी ने कहा कि कुछ हफ्तों के भीतर ही मलबा सड़ जाएगा। मलबे किसी भी अंतरिक्ष के लिए समस्या का कारण नहीं बनते। इनकी निगरानी के लिए हमारे पास पर्याप्त तंत्र हैं। सच तो यह है कि हमारे रडार ने परीक्षण के तुरंत बाद मलबे को उठा लिया था।

मिशन शक्ति : कुछ ही दिनों में खत्म हो जाएगा अंतरिक्ष में फैला मलबाः DRDO

भारत पर अमेरिका द्वारा अंतरिक्ष में मलबा फैलाने के आरोप पर जवाब देते हुए डीआरडीओ (DRDO) चीफ सतीश रेड्डी (Satheesh Reddy) ने कहा कि कुछ ही दिनों में अंतरिक्ष में मिशन शक्ति (Mission Shakti) के कारण फैला मलबा (Debris) खत्म हो जाएगा।

मिशन शक्ति के पूरा होने के बाद से ही हम स्पेस डिब्री (Debris) की निगरानी कर रहे हैं। DRDO ने बताया कि मिशन शक्ति के कारण फैले मलबे से इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को किसी भी तरह का खतरा नहीं है।

स्पेस डिब्री या मलबा (Debris)

आंतरिक्ष में बहुत सी सैटेलाइट घूम रही हैं। जो लगातार पृथ्वी का चक्कर लगा रही हैं। मिशन शक्ति में इस्तेमाल हुई सैटेलाइट भी पृथ्वी का चक्कर ही लगा रही थी। जब उसे नष्ट किया गया तो उसके कई सौ टुकड़े फैैल गए जो अनियंत्रित होकर लगातार घूमे जा रहे हैं।

नासा ने इसी मलबे या स्पेस डिब्री को खतरा बताया है। क्योंकि मलबे कई हजार किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चक्कर लगा रहे हैं। नासा ने बताया है कि यह मलबे किसी सैटेलाइट से टकरा सकते हैं। जिससे कि बहुत बड़ा विनाश अंतरिक्ष में देखने को मिलेगा।

लेकिन डीआरडीओ ने कहा है कि इस मलबे से किसी भी तरह का खतरा नहीं है। पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के चलते यह जल्द ही पृथ्वी की कक्षा में आ जाएंगे। ऐसा होते ही मलबा धरती से कई सौ किलोमीटर ऊपर ही जल जाएगा। और पृथ्वी पर नहीं गिरेगा।

Next Story
Top