Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्रमुख कृषि उत्पादों का निर्यात घटा लेकिन जिंसों के निर्यात में वृद्धी

कृषि जिंसों के दाम आमतौर पर कमजोर हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ यहां कीमत वैश्विक मूल्य सेधिक कहीं अधिक है

प्रमुख कृषि उत्पादों का निर्यात घटा लेकिन जिंसों के निर्यात में वृद्धी
नई दिल्ली. चावल, मसाला तथा तंबाकू समेत कई कृषि जिंसों का निर्यात अगस्त में घटा है। इसका मुख्य कारण वैश्विक जिंस बाजार में कीमतों में गिरावट है। चाय, कॉफी, काजू तथा ऑयलमील निर्यात में भी आलोच्य महीने के दौरान नकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई।कुल 13 मुख्य कृषि उत्पादों में आठ की निर्यात वृद्धि नकारात्मक रही। इन जिंसों के निर्यात पर वाणिज्य मंत्रालय नजर रखता है।

भारतीय निर्यात संगठनों के परिसंघ के महानिदेशक तथा सीईओ अजय सहाय ने कहा, वैश्विक बाजार में अधिक आपूर्ति के कारण कृषि जिंसों के दाम आमतौर पर कमजोर हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ यहां कीमत वैश्विक मूल्य सेधिक कहीं अधिक है। इससे निर्यात की तुलना में घरेलू बाजार एक बेहतर विकल्प है। कई कृषि जिंसों के निर्यात में गिरावट के लिये ये दो कारक मुख्य रूप से जिम्मेदार हैं। उत्पादों के निर्यात में गिरावट के कारण कुल वस्तुओं का निर्यात कम रहा। अगस्त में देश का निर्यात महज 2.35 प्रतिशत बढ़कर 26.95 अरब डालर रहा। निर्यात की यह वृद्धि दर पांच महीने का निम्न स्तर है। इससे व्यापार घाटा बढ़कर 10.83 अरब डालर पहुंच गया। देश के कुल निर्यात में कृषि उत्पादों की हिस्सेदारी 10 प्रतिशत से अधिक है।

उत्पादों का निर्यात घटा

वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, आलोच्य महीने के दौरान चावल, मसाला तथा तंबाकू का निर्यात क्रमश: 3.15 प्रतिशत घटकर 60 करोड़ डालर, 2.18 प्रतिशत घटकर 22.7 करोड़ डालर तथा 14.7 प्रतिशत घटकर 7.3 करोड़ डालर रहा। जिन अन्य उत्पादों के मामले में वृद्धि नकारात्मक रही, उसमें चाय (6.72 प्रतिशत), कॉफी (10.5), अनाज (50.6), काजू (1.82) तथा ऑयल मील (64.3 प्रतिशत) शामिल हैं।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, जिंसों के निर्यात में वृद्धी के बारे में-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-

Next Story
Top