Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तालिबान शासन का अंत होने बाद भी अफगानिस्तान में लड़कियां नहीं पहुंची स्कूल

मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट्स ने आज कहा कि दो तिहाई अफगान लड़कियां असुरक्षा और गरीबी के कारण स्कूल नहीं जाती।

तालिबान शासन का अंत होने बाद भी अफगानिस्तान में लड़कियां नहीं पहुंची स्कूल

मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट्स ने आज कहा कि दो तिहाई अफगान लड़कियां असुरक्षा और गरीबी के कारण स्कूल नहीं जातीं। इससे तालिबान शासन के अंत के 16 साल बाद पुरूष प्रधान देश में महिलाओं की शिक्षा से जुड़ी चुनौतियों का पता चलता है।

मानवाधिकार संस्थान के अनुसार जहां दमनकारी तालिबान शासनकाल (1996-2001) की तुलना में अब लाखों की तादाद में ज्यादा लड़कियां शिक्षा पा रही हैं, हाल के वर्षों में प्रगति थम सी गई है और देश के कुछ हिस्सों में छात्राओं का अनुपात गिर रहा है।

4 राज्यों के रिसर्च से चला पता-

न्यूयार्क आधारित संगठन ने अफगानिस्तान के 4 प्रांतों में किए गए अनुसंधान एवं सरकारी आंकड़े पर आधारित एक रिपोर्ट में कहा कि स्कूल ना जाने वाले 35 लाख बच्चों में से करीब 85 प्रतिशत लड़कियां हैं।

इसमें कहा गया है कि अमेरिका के नेतृत्व में अफगानिस्तान में हुए सैन्य हस्तक्षेप के साथ तालिबान शासन का अंत होने के 16 साल बाद भी अनुमानित रूप से दो तिहाई अफगान लड़कियां स्कूल नही जाती हैं।

Share it
Top