Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

#MeToo के फायदे और नुकसान, सोशल मीडिया बना अखाड़ा

तनुश्री दत्ता ने भारत में सबसे पहले नाना पाटेकर पर #MeToo मूवमेंट के तहत यौन शोषण का आरोप लगाया। इसी को देख कर कुछ और महिलाओं में हिम्मत आई। उन्होंने भी अपने साथ हुए यौन शोषण के खिलाफ #MeToo के जरिए आवाज उठाई।

#MeToo के फायदे और नुकसान, सोशल मीडिया बना अखाड़ा

महिलाओं के साथ हो रहे उत्पीड़न के मामले में अमेरिका में #MeToo का कैम्पेन चलाया गया, जिसके बाद कई महिलायें सामने आईं और अपने साथ हुए उत्पीड़न पर खुलकर बोलीं। अमेरिका के इस कैम्पेन की लपटें भारत में भी पहुंची जिसके बाद मामला तेजी से गरमा गया। भारत में इस मामले ने तूल तब पकड़ा जब तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर #MeToo मूवमेंट के तहत यौन शोषण का आरोप लगाया। इसके बाद कई लोग इसके समर्थन में आये और कई इसके विरोध में खड़े हो गए।

इस विवाद के चलते महिलाओं को कानूनी नोटिस का भी सामना करना पड़ रहा है। इसलिए इस मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। इसी #MeToo कैंपेन के बहुत सारे फायदे और नुकसान देखने को मिल रहे हैं। दिल्ली के कुछ वकीलों से इस मामले में जब बात की गई तो उन्होंने इसके फायदे और नुकसान के बारे में बतया...

#MeToo के फायदे

इस कैंपेन के जरिए महिलाओं में अपने उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने की ताकत आई।
ऑफिस, स्कूल, घर में उत्पीड़न झेल रही महिलाओं में बिना समाज की फिक्र के उत्पीड़न की बात समाज के सामने साझा करने की हिम्मत आई।
इसी कैंपेन से महिलाओं में ताकतवर लोग, राजनेताओं, ऑफिस सहकर्मियों से बिना किसी डर के उनके खिलाफ पब्लिक में आकर बात कहा।
#MeToo कैंपेन के कारण वो लोग बेनकाब हुए जो शराफत का चोंगा ओढ़े हुए थे।
इस कैंपेन के कारण जो लोग उत्पीड़न करते हैं या करने की कोशिश करते हैं उनमें यह डर है कि कहीं वह भी इस शिकंजे में न फंस जाएं।

#MeToo के नुकसान

#MeToo के कारण किसी निर्दोष पुरुष की इज्जत दांव पर लग सकती है।
आरोप लगाने के बाद अगर कोर्ट में मामले की सच्चाई साबित नहीं हुई तो आरोप लगाने वाली महिलाएं मानहानि के मुकदमों में फंस सकती हैं।
इसके आलावा जिसपर केस चलेगा, वह सरकारी नौकरी के लिए आवेदन नहीं कर सकता/सकती है।
महिलाओं पर अत्याचार और अधिक बढ़ने के खतरे होंगे।
जब यह कैंपेन ट्रेंड से बाहर हो जाएगा, उस समय सामान्य महिलाओं को फिर से समाज के नाम पर दबाया जाएगा।
Next Story
Top