Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कमाई के मामले में गोदरेज और हिंदुस्तान यूनिलिवर के CEO से भी आगे हैं MDH के दादा जी

गुलाटी के बेटे कंपनी का हर कामकाज संभालते हैं वहीं उनकी 6 बेटियां डिस्ट्रिब्यूशन का काम संभालती हैं।

कमाई के मामले में गोदरेज और हिंदुस्तान यूनिलिवर के CEO से भी आगे हैं MDH के दादा जी
नई दिल्ली. भारत में अपने स्वाद के सबसे ज्यादा बिकने वाले मशहूर प्रोडक्ट एमडीएच मसालों के कर्ता-धर्ता यानि सीईओ धरमपाल सिंह ने अब तक इतना कमा लिया है कि आप जानकर हैरान रह जाएंगे।
महज 5वीं पास 94 वर्षीय धरमपाल सिंह ने वित्तीय वर्षों में 21 करोड़ तक की कमाई कर ली है। इकॉनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पांचवी पास गुलाटी ने पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान 21 करोड़ रुपये की कमाई की है, जो गोदरेज कंज्यूमर के और विवेक गंभीर, हिंदुस्तान यूनिलीवर के संजीव मेहता और आइटीसी के वाई सी देवेश्वर की कमाई से भी कहीं ज्यादा है।
उनकी कंपनी ‘महाशियां दी हट्टी’ जो एमडीएच के नाम से मशहूर है, ने इस साल कुल 213 करोड़ रुपये का मुनाफा हासिल किया। कंपनी की 80 प्रतिशत हिस्सेदारी गुलाटी के पास है। पांचवीं पास गुलाटी को दादा जी या महाशयजी के नाम से भी लोग जानते हैं।
वह रोजाना फैक्ट्री, बाजार और डीलर्स से मिलते हैं। जब तक उनको यह तसल्ली नहीं होती कि कंपनी में सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा है, उन्हें चैन नहीं मिलता। वह रविवार को भी फैक्ट्री जाते हैं। दूसरी पीढ़ी के आंत्रप्रन्योर गुलाटी ने 60 साल पहले एमडीएच जॉइन किया था। वह कहते हैं, मेरे काम करने के पीछे यह प्रेरणा रहती है कि उपभोक्ताओं को कम से कम दाम में अच्छी गुणवत्ता का उत्पाद उपलब्ध कराया जाए। मैं अपनी क्षमता के मुताबिक अपनी सैलरी का 90 फीसदी हिस्सा चैरिटी में देता हूं।
एमडीएच के दुबई और लंदन में भी ऑफिस हैं। यह मसाला कंपनी लगभग 100 देशों से एक्सपोर्ट करती है। गुलाटी के बेटे कंपनी का हर कामकाज संभालते हैं वहीं उनकी 6 बेटियां डिस्ट्रिब्यूशन का काम संभालती हैं। कीमतों से मात दे रहे हैं। बाकी कंपनियां हमारी प्राइसिंग स्ट्रैटजी को अमल में लाने की कोशिश करती हैं। चूंकि हम कीमतें कम रखते हैं इससे हमें ओवरऑल फायदा ज्यादा होता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top