Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मायावती का पलटवार, पार्टी को मिले पैसों का दिया पूरा हिसाब

नोटबंदी के बाद बीएसपी के खाते में 104 करोड़ रुपए जमा हुए हैं।

मायावती का पलटवार, पार्टी को मिले पैसों का दिया पूरा हिसाब
लखनऊ. नोटबंदी का लगातार विरोध कर रही बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार को बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग द्वारा भेजे गए नोटिस पर 12 मॉल एवेन्यू में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। मायवती ने पीएम मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि प्रदेश में बसपा की छवि को खराब करने के लिए विपक्षी पार्टियां ऐसा घिनोना खेल खेल रही है। नोटबंदी के बाद बहुजन समाज पार्टी के खाते में 104 करोड़ रुपये आने के बाद मायावती ने सफाई देते हुए कहा कि केंद्र सरकार सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रहा। मैंने पूरी ईमानदारी के साथ पार्टी को मिले चंदे के पैसों को रूटीन प्रोसेस के साथ बैंक में जमा करवाया है। पार्टी को पुराने नोटों में ही चंदा मिला है। हमारे पास बैंक में जमा एक-एक पैसे का हिसाब है। हमारे पास जमा पैसों का क्‍या फेंक देते? लेकिन भाजपा ने जो रुपये जमा किए हैं उसका क्या।
मायावती ने नोटबंदी को लेकर कहा कि देश में इमरजेंसी जैसा माहौल पैदा किया जा रहा है। जैसे कांग्रेस इमरजेंसी लगाई थी वैसे ही बीजेपी अघोषित आर्थिक इमरजेंसी लगा रही है। समाज में गरीबी और बेरोजगारी पहले जैसी ही बनी हुई है। वहीं मायावती ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा नेताओं ने कुछ चैनलों को मैनेज किया। कुछ अख़बारों को भी बीजेपी ने मैनेज किया। उन्होंने कहा कि बसपा नियमों के मुताबिक धनराशि जमा कर रही है।
बता दें कि नोटबंदी के बाद बहुजन समाज पार्टी के खाते में 104 करोड़ रुपये हुए है। यह रकम दिल्ली के एक बैंक में जमा हुए हैं जिसमें पार्टी का खाता है। इस बैंक की शाखा में बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार का भी खाता है और उनके खाते में भी 1.43 करोड़ रुपये की रकम जमा होने की बात सामने आई है। वहीं विपक्षी पार्टियों का कहना है कि मायावती इसलिए संसद में नोटबंदी का विरोध कर रहीं थीं।
मायावती ने पलटवार करते हुए कहा कि देश में खासकर भाजपा दलित विरोधी मानसिकता रखने वाले लोग कतई नहीं चाहते हैं कि दलित वर्ग की बेटी के हाथ में ताकत आए। दलित की बेटी जनता के उत्थान के लिए काम करे यह उन्हें अच्छा नहीं लगता है, क्योंकि इसके बाद धन्नासेठों का पूंजीवाद का राज खत्म हो जाएगा। अगर भाजपा में सच में इमानदारी है तो अपने बैंक खाते और अन्य पार्टियों के खाते में जमा किए गए धन की भी जानकारी सामने लानी चाहिए।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top