Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''भविष्य का भारत'': मोहन भागवत के बयान का शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने किया स्वागत

आरएसएस के कार्यक्रम ''भविष्य का भारत'': ''राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का नजरिया'' कार्यक्रम के दौरान सरसंघचालक मोहन भागवत द्वारा दिए गए बयान का शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने स्वागत किया है।

आरएसएस के कार्यक्रम 'भविष्य का भारत': 'राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का नजरिया' कार्यक्रम के दौरान सरसंघचालक मोहन भागवत द्वारा दिए गए बयान का शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने स्वागत किया है।

मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा कि संघ भारत की बहुवाद और एकता में विश्वास करता है, ये स्वागत की बात है। उन्होंने आगे कहा कि इस तरह के विचारों के साथ ही देश की तरक्की हो सकती है। भारत की बेहतरी के लिए इससे बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता है।

जव्वाद ने आरएसएस के कार्यक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे। जव्वाद ने बताया कि अगर भारत में हिंदू-मुस्लिम एकता कायम रहे तो हमारा देश बहुत आगे जा सकता है। ये बात अलग है कि संघ के बारे में इस तरह की धारणा बनायी गई कि आरएसएस एक कट्टरवादी संगठन है।

इसे भी पढ़ें- कर्नाटक: मंत्री डीके शिवकुमार के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप, ED ने दर्ज किया केस

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि अपनी सोच को संकीर्ण कर आप संघ को नहीं समझ सकते हैं। आरएसएस को समझने के लिए हेडगेवार को समझना होगा।

भागवात ने आगे कहा था कि एक खास रणनीति के तहत संघ के बारे में खास दुष्प्रचार किया गया। लेकिन सच ये है कि संघ के कार्यकर्ता स्वार्थ का परित्याग कर आम लोगों की सेवा करते हैं। संघ किसी भी रूप में भेदभाव को बढ़ावा नहीं देता रहा है।

Next Story
Top