Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शहीद जवान के 6 साल के बच्चे ने कहा, मैं भी सेना में भर्ती होउंगा

हंगपन दादा को मरणोपरान्त देश के सर्वोच्च शूरवीरता सम्मान अशोक चक्र से नवाजा गया है।

शहीद जवान के 6 साल के बच्चे ने कहा, मैं भी सेना में भर्ती होउंगा
अरुणाचल प्रदेश. देश पर जान न्यौछावर करने वाले जवानों के बेटे-बेटियां भी सेना मे भर्ती होकर देश सेवा करने का दम भरते हैं। देश भक्ती की आपने बहुत सी मिसाल देखी होंगी लेकिन जब 6 साल का बच्चा अपने पिता के शहीद होने पर कहे कि वह भी सेना में भर्ती होगा तो आप क्या कहेंगे। ऐसा ही कुछ गणतंत्र दिवस के अवसर पर हुआ। असम रेजिमेंट के शहीद हवलदार हंगपन दादा के 6 साल के बच्चे ने सेना में जाने की बात कही।
गणतंत्र दिवस के अवसर पर हवलदार हंगपन दादा को मरणोपरान्त देश के सर्वोच्च शूरवीरता सम्मान अशोक चक्र से नवाजा गया। टाइम्स अॉफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल कश्मीर के नोगांव में 3 आतंकियों को मौत के घाट उतारने वाले शहीद हंगपन दादा को मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया है। देश पर जान लुटाने वाले हंगपन दादा की पत्नी चासेन लोआंग ने राजपथ पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से यह सम्मान प्राप्त किया।
शहीद दादा की पत्नी ने कहा कि वह चाहती हैं कि उनका बेटा या बेटी भी सेना में भर्ती हो और देश की सेवा करें। उन्होंने कहा कि यह बहुत बड़ा सम्मान है। मुझे अपने पति पर गर्व है। मैं खुश हूं और साथ ही उदास भी। बता दें कि लोआंग के दो बच्चें हैं दस वर्षीय बेटी रॉखिन दादा और सात वर्षीय बेटा सेवांग दादा।
बहादुर जवान के 6 साल के बेटे ने कहा कि, वह अपने पिता की तरह मजबूत और बहादुर बनना चाहता हैं। अपने पिता के नक्शे कदम पर चलने की बात मन में लिए सेवांग ने कहा कि, "मैं सेना के एक अधिकारी बनना चाहता हूं,।"
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top