Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऐसे बुझेगी बुंदेलखंड की प्यास

बुंदेलखंड के 11851 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में पांच जिलों बांदा, हमीरपुर, जालौन, चित्रकूट और माहोबा में 234 कुओं के निर्माण किया जाएगा।

ऐसे बुझेगी बुंदेलखंड की प्यास

देश में गर्मी के दिनों में जल संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने देश के बुंदेलखंड, मराठवाड़ा, कालाहांडी, बोलनगीर तथा कोरापुट जैसे सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए व्यापक जल संरक्षण अभियान शुरू करने की सभी तैयारियां पूरी कर ली है, जिसमें सबसे पहले कल शुक्रवार को यूपी व मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड के लिए मध्य प्रदेश के सागर में बंद्री में इस अभियान की शुरूआत की जाएगी।

केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय के अनुसार केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास तथा गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती ने बुंदेलखंड, मराठवाड़ा, ओडिशा के कालाहांडी, बोलनगीर तथा कोरापुट के सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए व्यापक जल संरक्षण कार्यक्रम की शुरू करने की तैयारी की है, जिसकी शुरूआत 28 अप्रैल को सागर (मध्य प्रदेश) के बंद्री से हो चुकी है।

केंद्रीय जल संसाधन मंत्रालय ने राष्ट्रीय भूजल प्रबंधन सुधार योजना (एनजीएमआईएस) के अंतर्गत कई नई पहल की है। इसका उद्देश्य दबाव वाले ब्लॉकों में भूजल की स्थिति में कारगर सुधार करना, गुण और मात्रा दोनों की दृष्टि से संसाधन को सुनिश्चित करना, भूजल प्रबंधन और संस्थागत मजबूती में भागीदारीमूलक दृष्टिकोण अपनाना है।

बुंदेलखंड का मास्टर प्लान

देश में जल संकट की चुनौतियों से निपटने के लिए जल संसाधन मंत्रालय ने बुंदेलखंड क्षेत्र में भूजल के कृत्रिम रिचार्ज के लिए मास्टर प्लान बनाया है। यूपी के बुंदेलखंड क्षेत्र में लगभग 1100 परकोलेशन (रिसाव) टैंकों, 14 हजार छोटे चैक डैम व नाला पुश्तों तथा 17 हजार रिचार्ज शॉट्स की पहचान की है। वहीं मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में लगभग दो हजार परकोलेशन टैंको, 55 हजार छोटे चैक डैम/नाला पुश्तों तथा 17 हजार रिचार्ज शॉट्स की पहचान हुई है।

अभियान के तहत भूजल खोज के हिस्से के रूप में उत्तर प्रदेश क्षेत्र के बुंदेलखंड के 11851 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में पांच जिलों बांदा, हमीरपुर, जालौन, चित्रकूट और माहोबा में 234 कुएं बनाने का प्रस्ताव है। जबकि मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र के 8319 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र के अंतर्गत छह जिलों में भूजल खोज के लिए 259 कुओं के निर्माण किया जाएगा।

Next Story
Top