Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पर्रिकर की जवानों को नसीहत, बोले- मुझसे शिकायत करो, सोशल मीडिया पर नहीं

सेना में एक व्यापक तंत्र है, जिस पर कोई भी जवान शिकायत कर सकता है।

पर्रिकर की जवानों को नसीहत, बोले- मुझसे शिकायत करो, सोशल मीडिया पर नहीं
नई दिल्ली. मंगलवार को संसद पहुंचे रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने जवानों को अपनी परेशानी सोशल मीडिया पर शेयर न करने की नसीहत दी है।श्री पर्रिकर ने कहा सेना के जवान खाने की खराब गुणवत्ता और काम की परिस्थितियों के बारे में शिकायत मुझे या सेनाप्रमुख जनरल बिपिन रावत को कर सकते हैं। उन्होंने ने कहा कि संचार के सोशल मीडिया जैसे माध्यमों पर इन विषयों को उठाना सेना के अनुशासन का उल्लंधन है।
राज्यसभा में पूछे गए एक प्रश्न का जवाब देते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि सोशल मीडिया पर इस तरह के मुद्दों को उठाने से कोई समाधान नहीं मिल सकता। अगर किसी के पास बदलाव को लेकर कोई सुझाव है, तो जवान सेनाप्रमुख या मेरे समक्ष इस तरह के मामलों को उठा सकते हैं। गौरतलब है कि सेनाप्रमुख जनरल रावत भी बीते महीने हुए सेना के वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में जवानों को इस तरह की हिदायत दे चुके हैं।
इस तरह की शिकायत से जुड़े मामले में केस वरिष्ठ अधिकारी के पास जाने पर यह सीधा-सीधा सेना के अनुशासन का उल्लंधन का मामला बनेगा। इस तरह की समस्याआें का समाधान निकालने के लिए सेनाआें में एक व्यापक तंत्र है, जिसपर कोई जवान शिकायत कर सकता है। आमतौर पर जवानों से जुड़े मुद्दों का हल उनके कमांडिंग आॅफिसर (सीओ) के स्तर पर निकाला जाता है। सेना का यह लगातार प्रयास रहता है कि वो जवानों के लिए बेहतरीन उपकरणों की खरीद करे। जिससे उनकी मारक क्षमता में इजाफा किया जा सके।
इसके अलावा रक्षा मंत्री ने कहा कि जहां तक जवानों के खाने और कपड़ोंं की बात है, तो इसके लिए सेना की टुकड़ियों की सलाह और वैज्ञानिक संगठनों के सुझावों के आधार पर कार्य किया जाता है। जवानों के लिए अच्छे जूते और हेलमेट से लेकर सरकार ने व्यक्तिगत स्तर पर कॉम्बेट किट खरीदी है। इसमें 136 स्टेशनों पर जेसीओ/ ओसीओ को बेसिक राशन में मीट और चिकन को पकाने के लिए भट्टी, पाउच में लंबे समय तक सही सलामत रहने वाली रेड्डी टू ईट सब्जियों का लाना, सियाचिन ग्लेशियर में 12 हजार फीट की ऊंचाई पर तैनात सैन्य टुकड़ियों के लिए विशेष राशन पहुंचाना शामिल है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top