Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Manohar parrikar : जानें RSS प्रचारक से लेकर देश के रक्षा मंत्री तक कैसे रहा राजनीतिक करियर

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के तौर पर शुरुआत कर गोवा के मुख्यमंत्री और देश के रक्षा मंत्री बनने वाले पर्रिकर की छवि हमेशा ही बहुत सरल और सामान्य व्यक्ति की रही।

Manohar parrikar : जानें RSS प्रचारक से लेकर देश के रक्षा मंत्री तक कैसे रहा राजनीतिक करियर
गोवा (Goa) के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर (Chief Minister Manohar Parrikar) का अंतिम संस्कार आज शाम 5 बजे किया जाएगा। 63 साल की उम्र में अग्नाशय कैंसर (Pancreatic cancer) जैसी गंभीर बीमारी के चलते उनका निधन हो गया। उनके निधन पर गोवा में 7 दिन का राजकीय शोक घोषित (State mournful) किया गया है तो वहीं देश में एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है। मनोहर पर्रिकर आईआईटी ग्रेजुएट स्टूडेंट थे। 24 अक्टूबर 2000 को उन्होंने गोवा के मुख्यमंत्री के तौर पर पहली बार कार्यभार संभाला।

आरएसएस प्रचार से की कॅरियर की शुरुआत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के तौर पर शुरुआत कर गोवा के मुख्यमंत्री और देश के रक्षा मंत्री बनने वाले पर्रिकर की छवि हमेशा ही बहुत सरल और सामान्य व्यक्ति की रही। वह सर्वस्वीकार्य नेता थे। ना सिर्फ भाजपा बल्कि दूसरे दलों के लोग भी उनका मान-सम्मान करते थे।
उन्होंने गोवा में भाजपा को मजबूत आधार प्रदान किया। लंबे समय तक कांग्रेस का गढ़ रहने वाले गोवा में क्षेत्रीय संगठनों की पकड़ के बावजूद भाजपा उनके कारण मजबूत हुई।

गोवा में आरएसएस से की थी करियर की शुरुआत

मध्यमवर्गिय परिवार में 13 दिसंबर, 1955 में जन्मे पर्रिकर ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के रूप में करियर शुरू किया। यहां तक कि आईआईटी बंबई से स्नातक करने के बाद भी वह संघ से जुड़े रहे। सक्रिय राजनीति में पर्रिकर का पदार्पण 1994 में पणजी सीट से भाजपा टिकट पर चुनाव जीतने के साथ हुआ। वह 2014 से 2017 तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कैबिनेट में रक्षा मंत्री रहे।

राजनीतिक सफर

मनोहर पर्रिकर 2000 से 2005, 2012 से 2014 और 2017 से अक्टूबर 2018 तक गोवा के मुख्यमंत्री थे। इसके बाद वे रक्षामंत्री बने। वह उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के सदस्य भी रह चुके थे, लेकिन 2017 में गोवा का सीएम बनने के बाद उन्होंने सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।

पीएम मोदी के बुलावे पर बने देश के रक्षा मंत्री

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की भारी बहुमत से जीत हुई और पीएम मोदी के बुलवे पर उन्हें गोवा से दिल्ली बुलाया गया और देश की भागदौड़ उनके हाथों में दी। उन्होंने रक्षा मंत्री का पदभार सम्भाला। लेकिन बीते साल हुए गोवा विधानसभा चुनाव में बहुमत ना मिलने से उन्हें वापस गोवा जाकर सीएम पद संभालना पड़ा।

अमेरिका से लौटे फिर हालत बिगड़ी

पर्रिकर को फरवरी 2018 में एडवांस्ड पैन्क्रिएटिक (अग्नाशय) कैंसर होने का पता चला था। पिछले साल कैंसर का इलाज कराने के लिए मनोहर पर्रिकर अमेरिका भी गए थे। वो 15 सितंबर को वापस देश लौटे थे। पिछले साल अक्टूबर के महीने में फिर उनकी तबीयत खराब हुई जिसके कारण उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था। एक महीने एम्स में भर्ती रहने के बाद उन्हें एयर एंबुलेंस के जरिए गोवा ले जाया गया था। गोवा में उन्हें आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा था।
Next Story
Share it
Top