Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अपनी किताब में बोली पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बेटी, मेरे पापा कमजोर इंसान नहीं

एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में दमन सिंह ने मनमोहन सिंह के रिएक्शन की खुलकर चर्चा की।

अपनी किताब में बोली पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बेटी, मेरे पापा कमजोर इंसान नहीं
नई दिल्ली. "पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कांग्रेस में ही विरोध का सामना करना पड़ा।" यह कहना है मनमोहन सिंह की बेटी दमन सिंह का। दमन ने अपनी किताब "स्ट्रीक्टली पर्सनल, मनमोहन एंड गुरशरण" में यह खुलासा किया है।
एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में दमन सिंह ने मनमोहन सिंह के रिएक्शन की खुलकर चर्चा की जो उन्हें अपने प्रधानमंत्री रहते सार्वजनिक नहीं किए। एक सवाल के जवाब में दमन ने कहा कि जब राहुल गांधी ने अपराधी सांसदों के बारे में आए अध्यादेश को वापस लेने का अचानक और जिस अंदाज में फैसला लिया उस समय मनमोहन अमरीका की यात्रा पर थे। वास्तव में मनमोहन को इस फैसले से कष्ट हुआ। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि वह इस कष्ट को जाहिर करते। ऎसा भी नहीं है कि जो उनके बारे में कहा गया उसे उन्होंने सुना या देखा नहीं। बहुत सारी चीजों से उन्हें परेशानी हुई। वह मेरे और आपकी की ही तरह संवेदनशील हैं। वे सोचते हैं कि उनकी भावनाओं का प्रसार करना जरूरी नहीं है।
क्या आपके पिता ने जब परिवर्तन लाने की कोशिश की तो उन्हें पार्टी के अंदर ही हमले झेलने पड़े? इस सवाल का दमन ने सीधा जवाब नहीं देते हुए सी सुब्रमण्यम के उदाहरण का सहारा लिया। दमन ने कहा कि सी सुब्रमण्यम की मेरे पिता बहुत प्रशंसा करते थे। किताब लिखते हुए मुझे मालूम चला कि सुब्रमण्यम ने ही हरित क्रांति को आगे बढ़ाया, लेकिन राजनीतिक स्तर पर उन्हें अमरीका एजेंट कहा गया। सुधारवादी परिवर्तन लाना बहुत मुश्किल है। सुब्रमण्यम को अपनी सीट गंवानी पड़ी। पथप्रदर्शकों को रिवार्ड नहीं मिला करते हैं, उनको कभी याद नहीं किया जाता है।
नीचे की स्‍लाइड्स में पढ़िए, दमन सिंह ने और क्या लिखा है इस किताब में -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top