Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Manipur Travel Tips: भारत का स्विट्जरलैंड है मणिपुर

यूं तो भारत में चप्पे चप्पे पर प्राकृतिक ख़ूबसूरती बिखरी पड़ी है। फिर चाहे वह कश्मीर (Kashmir) के पहाड़ हो या केरल (Kerala) के समुन्द्र तट। इसी तरह हमारे देश के उत्तर पूर्वी राज्य भी प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है (Travelling in North East India)। ऐसा ही एक उत्तर पूर्वी राज्य है मणिपुर (Manipur) जहां की प्राकर्तिक छटा निराली है। यहां देखने के लिए एक से एक सुंदर स्थान हैं। यहां अभी बहुत ज्यादा संख्या में टूरिस्ट नहीं आते इसलिए यह राज्य अभी कुछ अनछुआ है। लेकिन अगर आप घूमने-फिरने के शौकीन हैं तो आपको मणिपुर को जरूर घूमना चाहिए। आज हम आपको बता रहे हैं कि मणिपुर पहुंचकर कैसे घूम सकते हैं।

Manipur Travel Tips: भारत का स्विट्जरलैंड है मणिपुर
यूं तो भारत में चप्पे चप्पे पर प्राकृतिक ख़ूबसूरती बिखरी पड़ी है। फिर चाहे वह कश्मीर (Kashmir) के पहाड़ हो या केरल (Kerala) के समुन्द्र तट। इसी तरह हमारे देश के उत्तर पूर्वी राज्य भी प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है (Travelling in North East India)। ऐसा ही एक उत्तर पूर्वी राज्य है मणिपुर (Manipur) जहां की प्राकर्तिक छटा निराली है। यहां देखने के लिए एक से एक सुंदर स्थान हैं। यहां अभी बहुत ज्यादा संख्या में टूरिस्ट नहीं आते इसलिए यह राज्य अभी कुछ अनछुआ है। लेकिन अगर आप घूमने-फिरने के शौकीन हैं तो आपको मणिपुर को जरूर घूमना चाहिए। आज हम आपको बता रहे हैं कि मणिपुर पहुंचकर कैसे घूम सकते हैं। (Manipur Travel Guide).

कब जाएं घूमने

मणिपुर (Manipur) जाने का सबसे सही समय सितंबर से अप्रैल का होता है। इन दिनों यहाँ का मौसम बहुत सुहावना होता है (Manipur weather)। नवंबर से फरवरी के बीच काफी ठण्ड रहती है।

कैसे जाएँ (Manipur Travel Guide)

हवाई मार्ग- मणिपुर के लिए दिल्ली और अन्य शहरों से सीधी हवाई सेवा उपलब्ध है। अगर आप के पास ठीक-ठाक पैसा है तो आप इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं। अगर आप चाहें तो कई दिनों पहले बुकिंग करवा लें जिससे हवाई सेवा सस्ती हो जाए।
रेल मार्ग (Train To Manipur)- मणिपुर की राजधानी इम्फाल है। पहाड़ी इलाका होने के कारणवहां रेल सेवा उपलब्ध नहीं है। दिल्ली से नागालैंड के दीमापुर तक रेलमार्ग से जाया जा सकता है। फिर वहां से बस द्वारा इम्फाल तक की यात्रा की जा सकती है।

बस मार्ग (Bus to Manipur)- नागालैंड और असम से बस द्वारा मणिपुर पहुंचा जा सकता है।

कहां रुकें (Stay In Manipur)

मणिपुर में टू स्टार से लेकर फाइव स्टार तक कई होटल सहज ही उपलब्ध हैं। इसके अलावा आप होम स्टे भी ले सकते हैं।

मणिपुर में घूमने वाली जगह (Places To Visit in Manipur)

लोकतक लेक (Loktak Lake)

लोकतक लेक (Loktak Lake) उत्तर पूर्व (North East) की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील (Fresh Water Lake in Manipur) है जिस पर घास और झाड़ियों से बने अनोखे तैरते टापू हैं। इन टापुओं पर पैर रखने से ये हिलते हैं। इनमे से कई टापुओं पर मछुआरों की झोपड़ियां है और ऐसे ही एक बड़े टापू पर पूरा गांव बसा है जिसे देखना एक अनोखा अनुभव है।

श्री गोविन्द जी मंदिर (Govind Ji temple Manipur)

सुरुचिपूर्ण ढंग से बना भगवान कृष्ण (Krishna) का ये मंदिर अपने आप में बेजोड़ है। अगर आप गोविंदजी मंदिर जाएं तो सुबह 11 बजे के बाद मिलने वाला भोजन प्रसाद ज़रूर ग्रहण करें। यहाँ शाम की आरती और फेमस मणिपुरी रास भी देखने योग्य है।

कंगला फोर्ट (Kangla Palace)

सोलहवीं शताब्दी में बना कंगला फोर्ट (Kangla Palace) मणिपुर (Manipur) के बनने और उजड़ने की कहानी कहता है। पैदल, साइकिल से या बैटरी कार से एक से दो घंटे में ये पूरा फोर्ट आराम से घूमा जा सकता है।

आईएनए वॉर म्यूजियम (INA War Museum)

आईएनए वॉर म्यूजियम (INA War Museum) में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की यादों को संभाल कर रखा गया है। यहाँ द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान उनकी बहुत सी यादें सहेज कर राखी गयीं हैं।

पोलो ग्राउंड (Polo Ground)

हॉर्स पोलो की उत्पत्ति मणिपुर में ही हुई थी। यहाँ आप पोनी से खेला जाने वाला पोलो भी देख सकते हैं।

वॉर सेमिट्री (War Cemetery)

यह स्मारक दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान मणिपुर में मारे गए ब्रिटिश सैनिकों की स्मृति में बनाया गया है।

ईमा मार्किट (Ema Market)

ये मणिपुर की सबसे बड़ी मार्किट है। ईमा का मतलब होता है 'माँ' इसलिए इसे मदर्स मार्किट भी कहा जाता है। इस मार्किट की खासियत ये है कि इसमें लगभग पांच हज़ार दुकाने हैं और सबकी दुकानदार महिलाएं हैं।

मोरेह (Moreh)

मोरेह मणिपुर का सीमांत क़स्बा है जो आधा भारत तो आधा म्यांमार में है। यहाँ से म्यांमार के तमु कस्बे तक पैदल ही जाया जा सकता है। म्यांमार जाने के लिए एक निश्चित शुल्क लेकर पास जारी किया जाता है जिसके ज़रिये कुछ घंटो के लिए तमु जा सकते हैं। इस सीमा से बहुत से लोग व्यापर के सिलसिले में भारत से म्यांमार और म्यांमार से भारत आते हैं। तमु और मोरेह (moreh) दोनों ही जगह बड़ा बाजार है जहाँ म्यांमार के साथ साथ थाईलैंड और चीन से लाया गया सामान वाजिब दामों पर उपलब्ध है। इन बाज़ारों में भारतीय रुपया भी चलता है। यहाँ कई लोग हिंदी बोलते और समझते भी हैं।

संगाई फेस्टिवल (Sangai Festival)

नवंबर के महीने में होने वाला वार्षिक संगाई फेस्टिवल (Sangai Festival) मणिपुर की सांस्कृतिक विरासत को दर्शाता है। दस दिन तक चलने वाले इस फेस्टिवल में मणिपुर के विभिन्न रंग देखे जा सकते हैं।

मणिपुर में भोजन (Food In Manipur)

अगर आप मांसाहारी भोजन खाते हैं तो समझिए मणिपुर जाना आपके लिए किसी लॉट्री से कम नहीं है। मणिपुर का मांसाहारी खाना बहुत स्वादिष्ट होता है (ManiPur Non Veg Foor)। खासकर मछली क्योंकि यहां ज्यादातर मीठे पानी की मछली पायी जाती है। नगा थोंगबा यानि फिश करी यहां विशेष रूप से प्रसिद्ध है। शाकाहार में उति, इरोम्बा, कांगशोई और चटपटा काला चना विशेष रूप से खाया जाता है। मीठे में ड्राई केक और काले चावल की खीर यहाँ बहुत मशहूर है।

क्या खरीदें

यहाँ से आप बेंत का मणिपुरी हेंडीक्राफ्ट, ऊनी कपड़े, कंबल, काला चावल, अदरक, पैशन फ्रूट और लाल मिर्ची वाजिब दाम में ले सकते हैं। तो सोचिये मत, मेग्नीफिसेंट मणिपुर (Magnificent Manipur) आपको पुकार रहा है। बस चले आइये!
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top