Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेना की तैनाती पर पर्रिकर के पत्र का ममता ने दिया करारा जवाब

मता ने कहा कि मैंने सरकार की नीति के बारे में कहा था कि ना कि सेना के बारे में

सेना की तैनाती पर पर्रिकर के पत्र का ममता ने दिया करारा जवाब
कोलकाता. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच लेटर बम का इस्तेमाल हो रहा है। पहले रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पत्र लिखा, जिसके बदले में ममता ने पत्र से करारा जवाब देते हुए कि मैंने सवाल सेना पर नहीं बल्कि सरकार की मंशा पर सवाल उठाए थे। इतना ही नहीं उन्होंने रक्षा मंत्री द्वारा प्रयोग किए गए भाषा पर भी नाखुशी जाहिर की।
ममता ने कहा, 'मैं रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की चिट्‌ठी की भाषा से खुश नहीं हूं। मैंने सेना नहीं बल्कि सरकार की नीति पर सवाल उठाया था। रक्षा मंत्री को एक मुख्यमंत्री को पत्र लिखने के तरीके की जानकारी नहीं है। वे अपने राजनीतिक मकसद के लिए सेना का इस्तेमाल कर रहे हैं।' पर्रिकर के पत्र पर आपत्ति जाहिर करते हुए बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा, 'सेना को राजनीतिक उद्देश्‍यों को प्राप्‍त करने के लिए इस्‍तेमाल कर रहे हैं।'
ममता ने यह भी कहा कि मैंने सरकार की नीति के बारे में कहा था कि ना कि सेना के बारे में। उन्होंने कहा, मेरे लंबे राजनीतिक और प्रशासनिक जीवन में सम्‍मानित संगठन (सेना) का प्रयोग राजनीतिक बदले के लिए होते हुए कभी नहीं देखा था। दूसरी तरफ टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि चिट्ठी के बारे में मीडिया से ही जानकारी मिली है। पत्र मिलने के बाद हम उसका करारा जवाब देंगे।
बता दें कि रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने ममता के आरोपों पर पत्र लिखकर निराशा प्रकट की थी। उन्होंने कहा, 'ममता बनर्जी के आरोपों से सशस्त्र सेनाओं के मनोबल पर बुरा असर पड़ सकता है।' साथ ही रक्षा मंत्री ने ममता से निराशा जताते हुए लिखा, 'आपके जैसे स्तर के अनुभवी व्यक्ति से इस तरह की अपेक्षा नहीं थी। इस विवाद से पूरी तरह बचा जा सकता था।' बंगाल की मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया था कि केंद्र ने राज्य सरकार को विश्वास में लिए बिना ही सेना तैनात करने का फैसला किया।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top