Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मालदीव पर मंडराया राजनीति संकट, न्यायाधीशों की गिरफ्तारी के बाद कोर्ट ने पलटा फैसला

मालदीव के राष्ट्रपति ने ऊंचे कद के राजनीतिक बंदियों के दोष को बहाल करने के सुप्रीम कोर्ट के कदम का आज स्वागत किया।

मालदीव पर मंडराया राजनीति संकट, न्यायाधीशों की गिरफ्तारी के बाद कोर्ट ने पलटा फैसला

मालदीव के राष्ट्रपति ने ऊंचे कद के राजनीतिक बंदियों के दोष को बहाल करने के सुप्रीम कोर्ट के कदम का आज स्वागत किया। राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने शीर्ष के दो न्यायाधीशों को गिरफ्तार कर और आपातकाल की घोषणा करके इस पर्यटक देश को अस्थिरता में धकेल दिया था।

जेल में बंद राष्ट्रपति के राजनीतिक विरोधियों को रिहा करने और मोहम्मद नशीद की दोष सिद्धि को निरस्त करने के सुप्रीम कोर्ट के पिछले सप्ताह के आदेश का पालन करने से इनकार करने पर राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना हुई थी।

इसे भी पढ़ें: Pakoda Politics: पकौड़े के नाम पर भजिया तलने में जुटीं राजनीतिक पार्टियां, जानें कहां की देन है 'पकौड़ा'

विपक्ष के निर्वासित नेता नशीद ने कहा था कि इस वर्ष होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव में वह यामीन के खिलाफ खड़े होंगे। अदालत के आदेश ने उनके लिए यह रास्ता साफ कर दिया था। मंगलवार को बाकी के तीन न्यायाधीशों ने उन पर साबित आतंकवाद के विवादित दोष को बहाल कर दिया और आठ अन्य राजनीतिक कैदियों को रिहा करने के अपने पुराने आदेश को भी पलट दिया।

यामीन की वेबसाइट पर बुधवार को एक वक्तव्य में कहा गया कि उनका प्रशासन अदालत द्वारा फैसला पलटे जाने का स्वागत करता है। न्यायाधीशों ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति की ओर से उठाई गई चिंताओं की रोशनी में ऐसा किया। मालदीव में राजनीतिक संकट के मद्देनजर कई देशों ने यात्रा चेतावनी जारी की है।

देश की अर्थव्यवस्था काफी हद तक पर्यटन पर निर्भर है और अभी पर्यटन का मौसम भी चल रहा है। इस हफ्ते की शुरुआत में लगाए गए 15 दिन के आपातकाल ने सरकार को लोगों को गिरफ्तार करने, हिरासत में लेने और न्यायपालिका तथा विधायिका की शक्तियों को कम करने की ताकत दी। मालदीव के चीफ जस्टिस अब्दुल्ला सईद और एक अन्य न्यायाधीश को मंगलवार तड़के गिरफ्तार कर लिया गया था।

Next Story
Top