Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मालदीव संकटः पूर्व उपराष्ट्रपति जमील अहमद ने लगाई भारत से मदद की गुहार

मालदीव के पूर्व उप-राष्ट्रपति ने भारत पर भरोसा जताया है और साथ ही अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से की मदद की अपील की है।

मालदीव संकटः पूर्व उपराष्ट्रपति जमील अहमद ने लगाई भारत से मदद की गुहार

मालदीव के पूर्व उप-राष्ट्रपति मोहम्मद ज़मील अहमद ने अपने एक बयान में कहा है कि मालदीव की जनता ने देश में लोकतंत्र को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किया है।

केवल लोग ही नहीं देश की कार्यपालिका से लेकर न्यायपालिका ने भी देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था को बचाने की कोशिश की। पर सभी मालदीव में लोकतंत्र को बचाने में नाकाम रहे।

ये भी पढ़ेः 2000 करोड़ रुपये की लागत से बनेगा इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर, उपराष्ट्रपति नायडू ने रखी आधारशिला

मालदीव के पूर्व उप-राष्ट्रपति ने ऐसे हालात में अंतरराष्ट्रीय समुदाय से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है। उन्होंने भातर को लेकर अपनी इच्छा जाहिर करते हुए कहा की भारत को अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत मौजूद विकल्पों के जरिए मालदीव में लोकतंत्र की बहाली को लेकर आवश्यक कदम उठाने चाहिए।
क्या है मालदीव संकट
दरअसल यह पूरा मामला मालदीव की सत्ता को लेकर है। मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने देश की सत्ता पर काबीज रहने के लिए देश में आपातकाल की घोषणा कर दी। मालदीव संकट उस समय खड़ा हुआ जब देश की सर्वोच्च न्यायलय ने पूर्व राष्ट्रपति मुहम्मद नशीद को जेल से रिहा करने का आदेश दिया।
जिसे मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने मानने से इंकार कर दिया। दरअसल मुहम्मद नाशीद को 2015 में आतंकवाद के झूठे आरोप लगाकर सजा सुनाई गई थी। जिसे मालदीव की सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज करते हुए मुहम्मद नाशीद को रिहाई के आदेश दिए थे।
मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने मालदीव में आपातकाल की घोषणा कर लोगों के सभी लोकतांत्रिक अधिकार छीन लिए है।
Next Story
Top