Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''मेक इन इंडिया'': 6.5 लाख नई असाल्ट राइफल्स खरीदने की तैयारी में सेना, 300 मीटर होगी मारक क्षमता

''मेक इन इंडिया'' के तहत सेना 6.5 लाख नई असॉल्ट राइफल्स की खरीद करने की तैयारी में है। सेना ने 7.62x31 स्क्वेयर मिमी कैलिबर असॉल्ट राइफल्स की खरीद के लिए रिक्वेस्ट फॉर इन्फर्मेशन जारी किया है।

'मेक इन इंडिया' के तहत सेना 6.5 लाख नई असॉल्ट राइफल्स की खरीद करने की तैयारी में है। आने वाले कुछ सालों में सेना 12,000 करोड़ के इस प्रोजेक्ट पर काम करेगी। सेना ने शुक्रवार को 7.62x31 स्क्वेयर मिमी कैलिबर असॉल्ट राइफल्स की खरीद के लिए रिक्वेस्ट फॉर इन्फर्मेशन जारी किया।

यह राइफल 300 मीटर की रेंज तक मार कर सकेगी। ऑर्डिनेंस फैक्टरी बोर्ड के साथ-साथ प्राइवेट कंपनियों की ओर से इन्हें तैयार किया जाएगा। रिक्वेस्ट फॉर इन्फर्मेशन के तहत 24 सितंबर तक इन्हें आवेदन करना है।

इसे भी पढ़ें- मोदी सरकार का बड़ा फैसला, जनगणना 2021 में पहली बार अलग से OBC डेटा जुटाएगी सरकार

इससे पहले साल की शुरुआत में रक्षा मंत्रालय ने 1,798 करोड़ रुपए की लागत से 72,400 असॉल्ट राइफल्स को विदेश से खरीदे जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। सीमा चौकियों पर तैनात सैनिकों के लिए इन्हें फास्ट ट्रैक प्रतिक्रिया के तहत खरीदा जाएगा।

इन राइफल्स की खरीद के बाद चीन और पाकिस्तान की सीमा पर तैनात सैनिकों को लंबी दूरी तक मार करने वाली राइफलें मिल सकेंगी। इसके अलावा अन्य सैनिकों को भी इसी क्वॉलिटी की कम रेंज वाली राइफल्स मिलेंगी।

इसे भी पढ़ें- भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओमप्रकाश रावत ने ली बैठक

सेना को 8.16 लाख कैलिबर असॉल्ट राइफल्स की जरूरत

हालांकि इस पर सवाल भी उठाए जा रहे हैं। आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने पिछले दिनों कहा था कि 12 लाख की सेना को ये महंगी राइफलें नहीं दी जा सकती हैं क्योंकि बजट का अभाव है।

बता दें कि इन हाइटेक राइफल्स को इन्फैंट्री बटालियनों में तैनात सैनिकों को ही दिया जाएगा। इसके अलावा बड़ी संख्या में ऐसी राइफलें मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत ही तैयार की जाएंगी। सेना, नेवी और भारतीय वायुसेना को कुल 8.16 लाख कैलिबर असॉल्ट राइफल्स की जरूरत है।

Next Story
Top