logo
Breaking

जीएसटी की दरों में बड़ा बदलाव, एक नजर खास-खास बातों पर

जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को जीएसटी की दरों में बड़े बदलाव का ऐलान किया है।

जीएसटी की दरों में बड़ा बदलाव, एक नजर खास-खास बातों पर

जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को जीएसटी की दरों में बड़े बदलाव का ऐलान किया है। खास यह है कि 178 वस्तुओं को अब 18 फीसदी के स्लैब में लाया गया है। इससे बहुत सारे चीजें सस्ती हो गई हैं।

यह भी पढ़ें: बोले यशवंत सिन्‍हा- जयंत सिन्हा की जांच हो, लेकिन जय शाह को भी ना छोड़ें

28 फीसदी के स्लैब में 50 लग्जरी चीजें

रोजमर्रा की ज्यादातर वस्तुओं से जीएसटी दरें कम कर दी गई हैं। अब सिर्फ 227 वस्तुओं में से 50 पर ही 28 फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा। इस तरह 28 फीसदी स्लैब में अब सिर्फ लग्जरी आइटम हैं।

यह भी पढ़ें: जीएसटी परिषद की सिफारिशों से जनता को होगा फायदा: पीएम मोदी

रेस्टारेंट कारोबारियों को मिली राहत

जीएसटी दरों में बदलाव से रेस्टारेंट कारोबारियों को बड़ी राहत मिली है। अब सभी तरह के रेस्टारेंट में 5 फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा। इसमें एसी और नॉन-एसी रेस्तरां में भी शामिल हैं। इससे पहले यह दर 18 फीसदी थी। हालांक अब किसी भी रेस्टारेंट को आईटीसी का कोई लाभ नहीं मिलेगा।

यह भी पढ़ें: गुजरात के तीन दिवसीय चुनावी दौरे पर राहुल गांधी, भाजपा होगी निशाने पर

स्टार और बड़े होटलों में जीएसटी की दर

स्टार और बड़े होटलों को जीएसटी के बड़े बदलाव से कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है। स्टार होटलों में जीएसटी की दर 18 फीसदी ही होगी। हालांकि यहां होटल इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ जरूर ले सकते हैं।

किस स्लैब में कितने आइटम आए

6 आइटम 18 फीसदी टैक्स स्लैब से 5 फीसदी स्लैब में लाए गए हैं। 13 वस्तुओं को 18 फीसदी स्लैब से 12 फीसदी स्लैब में डाल दिया गया है। जबकि 13 चीजों को 12 फीसदी स्लैब से 5 फीसदी में लाया गया है। 5 फीसदी दर वाले 6 आइटम को शून्य कर दिया गया है।

जीएसटी की बदली दरें 15 नवंबर से लागू

जीएसटी काउंसिल की नई सिफारिशें और जीएसटी की परिवर्तित दरें तत्काल लागू नहीं होने जा रही हैं। लोगों को इसके लिए 15 नवंबर तक का इंतजार करना होगा।

ब्यूटी प्रोडक्ट्स सस्ते, लेकिन सैनिटरी नैपकिंस नहीं

खास बात यह है कि सरकार ने ब्यूटी प्रोडक्ट्स पर जीएसटी दरों को कम किया गया है, लेकिन सैनिटरी नैपकिंस पर कोई राहत नहीं दी गई है। महिलाएं सैनिटरी नैपकिंस पर राहत की उम्मीद किए हुई थीं।

जुर्माने में भी की गई कटौती

इसके साथ ही देरी से जीएसटी दायर करने पर जुर्माने की रकम भी कम कर दी गई है। जीरो देनदारी वाले करदाताओं पर जुर्माना 200 रुपये से घटाकर 20 रुपये रोजाना कर दिया गया है।

ये चीजें हुई सस्ती

रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीजें अब सस्ती हो गई हैं। इनमें शैम्पू, डियोडरेंट, आफ्टरशेव लोशन, जूतों की पॉलिश, टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, चॉकलेट, च्यूइंग गम और पोषक पेय पदार्थ शामिल हैं।

Loading...
Share it
Top