Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की बड़ी कार्रवाई, 1.43 करोड़ रुपए और 20 एकड़ जमीन जब्त

इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने माकपा के बिहार और झारखंड के दो प्रमुख नेताओं की संपत्ति जब्त की थी जिन्होंने इस पैसे को अपने करीबी रिश्तेदारों पर खर्च किया था।

नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की बड़ी कार्रवाई, 1.43 करोड़ रुपए और 20 एकड़ जमीन जब्त

नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कड़ी कार्रवाई जारी है। सुरक्षा बलों ने 1.43 करोड़ रुपए नकद, 20 एकड़ जमीन, माओवादी नेताओं द्वारा अवैध तरीके से हासिल किए गए धन से बिहार और झारखंड में अपने नाम की गई कई इमारतों और कोलकाता में खरीदे गए दो मकानों को जब्त किया है।

ये जब्ती गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत की गई हैं। इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के बिहार और झारखंड के दो प्रमुख नेताओं की संपत्ति और नकदी जब्त की थी जिन्होंने इस पैसे को अपने करीबी रिश्तेदारों की उच्च शिक्षा पर खर्च किया था।

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस न्यायपालिका का राजनीतिकरण करने का प्रयास कर रही है: भाजपा

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले दिनों बिहार और झारखंड के नक्सल नेताओं के पास से करीब 1.43 करोड़ रुपए नकद, 20 एकड़ जमीन, कई इमारतें, गाड़ियों, एसयूवी, खुदाई करने वाली मशीनों, बस और ट्रैक्टर को अपने कब्जे में लिया गया।

सुरक्षा बलों ने बिहार के एक नक्सली नेता द्वारा कोलकाता में खरीदे गए दो मकानों को भी जब्त कर लिया।

जब्त की गई रकम में 27.5 लाख रुपए वह हैं जो बिहार के जहानाबाद में दिवंगत नक्सली नेता अरविंदजी की पत्नी प्रभावती के पास से और 25.15 लाख रुपए वह हैं जिसे झारखंड के लातेहर में नक्सल नेता नंदू यादव के बेटे रोहित के पास से जब्त किया गया।

इसे भी पढ़ें- स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी के 2019 में 'PM' बनने को लेकर साधा निशाना, दिया ये बड़ा बयान

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि जब्त की गई संपत्ति में औरंगाबाद में माओवादी नेता यमुना मिस्त्री द्वारा खरीदी गई सात एकड़ जमीन, नक्सल नेता अर्जुन सिंह द्वारा जहानाबाद में खरीदी गई दो एकड़ जमीन, सुनील सिंह द्वारा औरंगाबाद में खरीदी गई 2.2 एकड़ जमीन और संतोष झार द्वारा कोलकाता में खरीदे गए दो मकान शामिल हैं।

गृह मंत्रालय की कड़ी नजर

गृह मंत्रालय ने नक्सलियों को वित्त मुहैया करने वाले स्रोतों को खत्म करने और उनके नेताओं की संपत्ति जब्त करने के लिए पहले ही एनआईए की विशेष शाखा बनाई है। इनमें विभिन्न विभागों में अनुभव रखने वाले लोग शामिल हैं।

Next Story
Top