Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जम्मू बस स्टैंड पर ग्रेनेड से हमले का मुख्य आरोपी गिरफ्तार, हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़े हैं तार

जम्मू बस स्टैंड पर हुए ग्रेनेड धमाके के मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जम्मू पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से एक आरोपी को हिसात में लिया है। आपको बता दें कि जम्मू शहर के बीचो-बीच स्थित भीड़-भाड़ वाले एक बस स्टैंड इलाके में संदिग्ध आतंकियों द्वारा बृहस्पतिवार को एक ग्रेनेड धमाका हुआ।

जम्मू बस स्टैंड पर ग्रेनेड से हमले का मुख्य आरोपी गिरफ्तार, हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़े हैं तार
जम्मू बस स्टैंड (Jammu Bus Stand) पर हुए ग्रेनेड (Granade) धमाके के मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जम्मू पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से एक आरोपी को हिसात में लिया है। आरोपी का नाम यासीर भट्ट है। पुलिस के मुताबिक आरोपी ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है। उसे यह ग्रेनेड कुलगाम में हिजबुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) के जिला कमांडर भारूख अहमद भट्ट उर्फ ओमार ने दिया था। आपको बता दें कि जम्मू शहर के बीचो-बीच स्थित भीड़-भाड़ वाले एक बस स्टैंड इलाके में संदिग्ध आतंकियों द्वारा बृहस्पतिवार को एक ग्रेनेड धमाका हुआ।
धमाके में एक किशोर की मौत हो गई जबकि 32 लोग घायल हो गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। पिछले साल मई से लेकर अब तक बस स्टैंड इलाके में आतंकवादियों द्वारा हथगोले के जरिए किया गया यह तीसरा हमला है। सुरक्षा एजेंसियां इसे शहर में शांति एवं सौहार्द बिगाड़ने के प्रयास के तौर पर देख रही हैं।
अधिकारियों ने कहा कि उत्तराखंड के हरिद्वार के निवासी 17 साल के मोहम्मद शरीक की अस्पताल में मौत हो गई। उसकी छाती पर चोट लगी थी। वह अस्पताल में भर्ती कराए गए 33 लोगों में शामिल था। उन्होंने कहा कि चार अन्य घायलों की हालत ‘‘गंभीर' है और इनमें से दो का डॉक्टरों ने ऑपरेशन किया है।
अधिकारियों ने कहा कि घायलों में कश्मीर के 11, बिहार के दो और छत्तीसगढ़ एवं हरियाणा का एक-एक व्यक्ति शामिल है। जम्मू के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) एम के सिन्हा ने बताया कि प्रारंभिक जांच से लगता है कि किसी ने दोपहर के वक्त बस स्टैंड इलाके में हथगोला फेंका जिससे विस्फोट हुआ।
पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि विस्फोट में बस स्टैंड पर खड़ी सरकारी बस को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ और इस विस्फोट से लोगों में अफरा-तफरी मच गई। आईजी ने कहा कि जब भी चौकसी ज्यादा होती है, हम जांच-पड़ताल सख्त कर देते हैं लेकिन किसी-किसी के उससे बच निकलने की आशंका रहती है और यह ऐसा ही मामला लग रहा है अधिकारी ने कहा कि शहर में इस तरह के हमले का कोई स्पष्ट इनपुट नहीं था।
गवर्नर सत्यपाल मलिक ने मृतक के परिजन को पांच लाख और घायलों को 20 हजार रूपए देने की घोषणा की है।
Loading...
Share it
Top