Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महाराष्ट्र: CM फडणवीस के ऑफिस में पी गई 3 करोड़ की चाय, RTI से हुआ खुलासा

2017 में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री सचिवालय ने करीब 3 करोड़ से अधिक की चाय पी डाली है। इस खबर का खुलासा आरटीआई के जरिए हुआ है। बुधवार को कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने आरटीआई के हवाले से इस खबर का खुलासा किया है।

महाराष्ट्र: CM फडणवीस के ऑफिस में पी गई 3 करोड़ की चाय, RTI से हुआ खुलासा

2017 में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री सचिवालय ने करीब 3 करोड़ से अधिक की चाय पी डाली है। इस खबर का खुलासा आरटीआई के जरिए हुआ है। बुधवार को कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने आरटीआई के हवाले से इस खबर का खुलासा किया है।

कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने मुख्यमंत्री सचिवालय से पूछा था कि वहां सोने की चाय पी जाती है क्या। इस पर सीएमओं ने जवाब देते हुए कहा था कि आरटीआई में दी गई जानकारी का गलत मतलब निकाला जा रहा था।

ये भी पढ़े: Hot Photo शेयर कर ट्रोल हुईं अजय देवगन की साली तनीषा, लोगों ने कहा- टीबी की मरीज

आरटीआई की रिपोर्ट में यह खबर आई थी कि सीएमओ ने 2017-18 में चाय और नाश्ते पर 3 करोड़ 34 लाख 64 हजार 905 रुपये की लागत आई थी। वहीं साल 2016-17 में इस पर 1 करोड़ 20 लाख 92 हजार 972 रुपये खर्चा हुए थे।

आरटीआई की जानकारी के तहत संजय निरुपम ने महाराष्ट्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि चाय और नाश्ते पर 557 प्रतिशत रुपये की बढ़ोतरी हुई है। संजय निरुपम ने सीएमओ से पूछा है कि क्या रोजाना यहां 18 हजार 500 कप चाय पी जाती है।

आरटीआई की जानकारी पर सीएमओ ने दी सफाई

इन आरोपो पर सीएमओ ने कहा है कि यह राशी सिर्फ चाय पर खर्च नहीं की जाती है। बल्कि यह राशी चाय, नाश्ता, खाना, मंत्रिमंडल की बैठक, मुख्यमंत्री से मिलने आने वाले मंडल का स्वागत सत्कार के काम में शामिल है।

ये भी पढ़े: इसरो ने लॉन्च किया GSAT-6A सैटेलाइट, जानिए इससे जुड़ी खास बातें और इसकी खूबियां

मुबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा है कि एक तरफ किसानों के लिए सरकार के पास पैसा नहीं है, वहीं दूसरी तरफ आम आदमी से कर के रूप में वसूले जाने वाले पैसे की लूट मचा रखी है। जनता इसके लिए भाजपा सरकार को कभी माफ नहीं करेगी।

संजय निरुपम के आरोपो पर सीएमओ ने कहा है कि पहले मुख्यमंत्री की तरफ से आयोजित विभागवार बैठक का सारा खर्चा उससे संबंधित विभाग देता था, मगर अब खर्च की गई राशी का खर्चे का भुगतान मुख्यमंत्री सचिवालय करता है। बैठकों की संख्या और महंगाई बढ़ चुकी है। इसी वजह से खर्चा ज्यादा बढ़ गया है।

Next Story
Top