Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

एक बार फिर फेल हुए मैगी के सैंपल, नेस्ले पर 45 लाख का जुर्माना

नेस्ले कंपनी पर 45 लाख का जुर्माना लगाया गया है।

एक बार फिर फेल हुए मैगी के सैंपल, नेस्ले पर 45 लाख का जुर्माना

अगर आप मैगी लवर हैं तो ये खबर आपके लिए चौंका देने वाली है क्योंकि मैगी के सैंपल फिर से फेल हो गए हैं। मैगी बनाने वाली मल्टीनेशनल कंपनी नेस्ले पर शहाजहांपुर जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है।

सैंपल फेल होने पर जिला प्रशासन ने नेस्ले कंपनी के साथ डिस्ट्रीब्यूटक और विक्रेताओं पर कुल 62 लाख रुपए का जुर्माना ठोंका।

उल्लेखनीय है कि दो साल पहले सैंपल फेल होने के चलते मैगी की बिक्री बंद हो गई दी। इसके बावजूद शाहजहांपुर समेत कई जिलों में खुदरा रूप मैगी को बेचा जा रहा था। इसे देखते हुए जिला प्रशासन ने छापेमारी अभियान चलाकर मैगी के सैंपल लिए थे। सैपल जांच के लिए राजकीय जन विश्लेषक प्रयोगशाला लखनऊ भेजे गए थे।
वहां पता चला की सैंपल में एश कंटेंट ज्यादा है।

नेस्ले पर 45 लाख का जुर्माना
मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने इस मामले में मुकदमा दर्ज किया। इस संबंध में सुनवाई करते हुए सोमवार को निर्णायक अधिकारी/एडीएम जितेंद्र कुमार शर्मा ने खाद्य सुरक्षा एंव मानक अधिनियम की धारा 51 के तहत नेस्ले कंपनी पर 45 लाख का जुर्माना लगाया है।
हालांकि कंपनी ने अपनी सफाई में कहा है कि मैगी नूडल्स 100 प्रतिशत सुरक्षित हैं। नेस्ले का कहना है कि एफ.एस.एस.आई के स्टैंडर्ड के हिसाब से मैगी एकदम खरी उतरती है।
Share it
Top