Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राजनीति के तहत मेरा नाम 1984 सिख विरोधी दंगों से जोड़ा जा रहा हैः सीएम कमल नाथ

मध्य प्रदेश के नए सीएम कमल नाथ कमान संभालते ही एक्टिव हो गए हैं। पहले तो उन्होंने किसानों के पक्ष में अपना फैसला लेते हुए किसानों की कर्जमाफी की। अब उन्होंने अपने ऊपर लग रहे आरोपों पर सफाई भी दे दी है।

राजनीति के तहत मेरा नाम 1984 सिख विरोधी दंगों से जोड़ा जा रहा हैः सीएम कमल नाथ
मध्य प्रदेश के नए सीएम कमल नाथ (Kamal Nath) कमान संभालते ही एक्टिव हो गए हैं। पहले तो उन्होंने किसानों के पक्ष में अपना फैसला लेते हुए किसानों की कर्जमाफी की। अब उन्होंने अपने ऊपर लग रहे आरोपों पर सफाई भी दे दी है।
कमलनाथ के ऊपर 1984 के सिख विरोधी दंगों (1984 Anti Sikh Riots) में शामिल होने के आरोप लगते आए हैं। सीएम के लिए उनके नाम की घोषणा होने के बाद भी 1984 का जिन्न फिर से बाहर आ गया था। तमाम संगठनों ने कमलनाथ के सीएम बनने का विरोध किया था। अब सीएम बनने के बाद कमलनाथ ने अपनी सफाई दी है।
कमलनाथ ने कहा है कि 1991 में जांच के दौरान मैने कई बार कसम खाई है कि दंगे को भड़काने में मेरा कोई हाथ नहीं था। मैं उसे रोकने का प्रयास कर रहा था। मेरे ऊपर किसी भी तरह का मुकदमा नहीं है, न ही कोई FIR दर्ज है और न ही कोई चार्जशीट दर्ज है। लेकिन आज अचानक से यह मुद्दा बढ़ाया जा रहा है।
केवल राजनीति के चलते इस मुद्दे को हवा दी जा रही है। क्या उस घटना का कोई गवाह सामने आया है? आपको बता दें कि कमलनाथ पर आरोप था कि 1 नवंबर 1984 को नई दिल्ली के गुरुद्वारा रकाबगंज में वह हिंसा करने वाली भीड़ में मौजूद थे और उन्होंने दो सिखों को जिंदा जला दिया था।
इस आरोप को कमलनाथ ने सिरे से नकार दिया है। 1984 सिख विरोधी दंगे में कांग्रेस नेता सज्जन सिंह को सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। जिसपर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने टिप्पणी की थी कि यह विडंबना है कि एक तरफ कांग्रेस कांग्रेस का शपथ ग्रहण हो रहा है और दूसरी ओर कांग्रेस का एक नेता जेल जा रहा है।
Loading...
Share it
Top