Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

....तो थरूर से बोलीं स्पीकर, क्या राजनाथ सिंह को विवाह का विशेषज्ञ मानते हो..

जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगाये जाने के मुद्दे पर लोकसभा में शुक्रवार को चर्चा के दौरान उस समय पूरे सदन में हंसी की लहर दौड़ गई जब अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने टिप्पणी की कि क्या आप गृह मंत्री राजनाथ सिंह को विवाह का विशेषज्ञ मानते हैं?

....तो थरूर से बोलीं स्पीकर, क्या राजनाथ सिंह को विवाह का विशेषज्ञ मानते हो..

जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगाये जाने के मुद्दे पर लोकसभा में शुक्रवार को चर्चा के दौरान उस समय पूरे सदन में हंसी की लहर दौड़ गई जब अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने टिप्पणी की कि क्या आप गृह मंत्री राजनाथ सिंह को विवाह का विशेषज्ञ मानते हैं?

हुआ यूं कि जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगाये जाने संबंधी सांविधिक संकल्प पर सदन में चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता शशि थरूर ने राज्य में भाजपा और पीडीपी के गठबंधन को अस्वाभाविक विवाह (अनैचुरल मैरिज) बताया था।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जब चर्चा में हस्तक्षेप किया तो उन्होंने थरूर की इस टिप्पणी का उल्लेख करते हुए कहा कि वह न तो स्वाभाविक विवाह और न ही अस्वाभाविक को परिभाषित कर सकते हैं।

सिंह बोले, नैचुरल मैरिज भी टूट जाती है

राज्य में भाजपा और पीडीपी के मिलकर सरकार बनाने के संदर्भ में थरूर के बयान पर उन्होंने कहा कि आप इसे अस्वाभाविक विवाह कहिए या क्या कुछ भी कहिए। जिसे ‘‘नैचुरल मैरिज' कहा जाता है, वह भी कब टूट जाए, उसका पता नहीं। उनके यह कहने के बाद थरूर सहित कुछ सदस्यों ने विवाह को लेकर टीका टिप्पणी शुरू कर दी।

फारूख बोले- शर्म आनी चाहिए

महाजन की इस छोटी सी टिप्पणी पर जहां भाजपा सदस्यों ने ठहाके लगाए वहीं नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला ने आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि शर्म आनी चाहिए। इसका भाजपा सदस्यों ने विरोध किया।

लेकिन गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अपनी पार्टी के सदस्यों को टोकते हुए कहा कि फारूक सदन के वरिष्ठ सदस्य है, अगर उन्होंने कुछ कहा है, तब इस पर प्रतिक्रिया देने की जरूरत नहीं है। इस पर फारूक अब्दुल्ला ने ‘‘धन्यवाद' कहा।

Share it
Top