Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लोकसभा चुनाव 2019: मिजोरम में पहली बार महिला प्रत्याशी चुनावी मैदान में...

आजादी के बाद इतिहास में पहली बार मिजोरम लोकसभा सीट से कोई महिला उम्मीदवार लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही हैं। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में अपनी किस्मत आजमाने वाली लालथलामौनी एक एनजीओ के माध्यम से यहुदी समुदाय के लिए कल्याण का काम करती हैं, उन्होंने बताया कि वे ईश्वर के संदेश से चुनाव लड़ने का इरादा बनाई हैं। वे कहती हैं कि ये लड़ाई महिलाओं की है। वहीं तेलंगाना के निजामाबाद संसदीय सीट से पहली बार कुल 185 उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरे हैं और 185 उम्मीदवारों की सूची में 175 पेशे से किसान हैं। इस सीट से मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव की बेटी के.कविता लड़ती हैं। बताया जा रहा है कि किसान अपनी मांगों के लिए उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरकर विरोध करेंगे ताकि लोगों का ध्यान उनकी समस्याओं पर जाए। उम्मीदवारों की इतनी भारी संख्या के कारण चुनाव आयोग बैलेट पेपर से चुनाव करवाएगी। बता दें कि ईवीएम में केवल 64 नाम आ सकते हैं।

लोकसभा चुनाव 2019: मिजोरम में पहली बार महिला प्रत्याशी चुनावी मैदान में...

आजादी के बाद इतिहास में पहली बार मिजोरम लोकसभा सीट से कोई महिला उम्मीदवार लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही हैं। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में अपनी किस्मत आजमाने वाली लालथलामौनी एक एनजीओ के माध्यम से यहुदी समुदाय के लिए कल्याण का काम करती हैं, उन्होंने बताया कि वे ईश्वर के संदेश से चुनाव लड़ने का इरादा बनाई हैं।

वे कहती हैं कि ये लड़ाई महिलाओं की है। वहीं तेलंगाना के निजामाबाद संसदीय सीट से पहली बार कुल 185 उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरे हैं और 185 उम्मीदवारों की सूची में 175 पेशे से किसान हैं।

इस सीट से मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव की बेटी के.कविता लड़ती हैं। बताया जा रहा है कि किसान अपनी मांगों के लिए उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरकर विरोध करेंगे ताकि लोगों का ध्यान उनकी समस्याओं पर जाए। उम्मीदवारों की इतनी भारी संख्या के कारण चुनाव आयोग बैलेट पेपर से चुनाव करवाएगी। बता दें कि ईवीएम में केवल 64 नाम आ सकते हैं।

  1. मिजोरम के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है जब एक महिला लोकसभा चुनाव लड़ रही है। इस लिहाज से भी लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) बेहद खास है। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में लालथलामौनी का मुकाबला पांच पुरुष प्रत्याशियों से होगा। मिजोरम के मौजूदा सांसद सीएल रौला हैं, जिनकी उम्र 83 साल है। सीएल रौला दो बार चुनाव जीत चुके हैं। मिजोरम के विधानसभा चुनाव में 15 महिला उम्मीदवारों ने भाग लिया था। लालथलामौनी भी उन्हीं 15 में से एक है। लालथलामौनी को 69 मत प्राप्त हुए थे।
  2. लालथलामौनी ने कहा कि चुनाव लड़ने का फैसला वे ईश्वर के इशारे पर ले रही हैं। यह लोकतंत्र के पर्व की सबसे पवित्र लड़ाई है जिसमें महिलाओं की भागेदारी महत्वपूर्ण है। यह चुनौती महिलाओं के लिए भी है। हमारा कोई राजनीतिक प्रतिनिधित्व नहीं है। हम दुनिया के सामने अपने हक की बात के लिए लड़ती हैं। अब वक्त आ गया है कि संसद को माध्यम के तौर पर प्रयोग करें। हमें कोई ऐसा प्रतिनिधित्व चाहिए जो न सिर्फ हमारे लिए खड़ा हो बल्कि वह हमारी आवाज भी बन सके।
  3. निजामाबाद लोकसभा सीट की दावेदारी तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष व मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव की बेटी के.कविता करती हैं, यहां 185 उम्मीदवार मैदान में हैं उनमें से 175 हल्दी किसान हैं, जो सरकार से अपनी मांगों को लेकर बेहद नाराज हैं, उनकी मांग है कि सरकार ने पिछले एक दशक से हल्दी का भाव कम कर दिया है और इस बारे में सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है।
  4. मुख्य चुनाव अधिकारी रजत कुमार के अनुसार ईवीएम में केवल 64 उम्मीदवारों के नाम ही आ सकते हैं जिसमें नोटा का विकल्प उपलब्ध है। ऐसे में बैलेट पेपर से ही मतदान कराया जा सकता है।
  5. चुनाव अधिकारी ने कहा कि, हमें अगले 10 दिनों के भीतर 15 लाख जम्बो साइज बैलेट पेपर प्रिंट करवाने होंगे और साथ ही बैलेट पेपर बॉक्स उपलब्ध करवाना होगा। इसके लिए हमनें कई प्रिंटर्स से बातचीत की है। दूसरे प्रदेशों से भी बैलेट बॉक्स का प्रबंध किया जा रहा है। इसके बाद हमें स्वतंत्र उम्मीदवारों को चुनाव चिह्न भी देना होगा जिसमें काफी समय लग सकता है।
  6. 1996 के बाद ऐसा पहली बार होने जा रहा है, जब राज्य में बैलेट पेपर का इस्तेमाल किया जाएगा।
Next Story
Top