logo
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019 : क्या प्रियंका के आने के बाद बदलेगी कांग्रेस की सूरत

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने बड़ा दाव चलते हुए प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी और पार्टी का महासचिव बना दिया है। जिससे साफ जाहिर है कि प्रियंका गांधी वाड्रा अब सक्रिय राजनीति में उतर आईं हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 : क्या प्रियंका के आने के बाद बदलेगी कांग्रेस की सूरत

भारत में लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों के साथ ही चुनाव का आगाज हो चुका है। राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव को जीतने के लिए रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। ताकि चुनाव में जीत हासिल की जा सके। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने बड़ा दाव चलते हुए प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी और पार्टी का महासचिव बना दिया है। जिससे साफ जाहिर है कि प्रियंका गांधी वाड्रा अब सक्रिय राजनीति में उतर आईं हैं। वैसे तो लंबे समय से कांग्रेस के कई कार्यकर्ता उन्हें राजनीति में आने के लिए मांग करते रहे हैं। साल 2018 में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने प्रियंका गांधी वाड्रा को गेम चेंजर बताया था। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा था कि 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रियंका गांधी एक बड़ी भूमिका निभाएंगी।

क्या बदलेगी कांग्रेस की सूरत?

प्रिंयका गांधी रायबरेली और अमेठी में पार्टी की ओर से चुनाव प्रचार भी कर चुकी हैं और इसका लोगों पर प्रभाव भी अच्छा रहा है। लेकिन अब उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान सौंप दी है जिसके बाद अब लोगों पर प्रभाव डालने का दायरा भी बढ़ गया है। वैसे तो वर्तमान में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी स्थिति कुछ खास अच्छी नहीं है। ऊपर से सपा और बसपा ने गठबंधन में कांग्रेस को जगह नहीं दी है, और भारतीय जनता पार्टी भी कांग्रेस के सामने हैं। जिसको देखते हुए कांग्रेस की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। इसलिए राहुल गांधी को कोई निर्णायक कदम जरूर था। अगर देखा जाए तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी को पूर्वी यूपी और उनके साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिमी यूपी की कमान सौंप कोई गलत फैसला नहीं लिया है।

क्योंकि प्रियंका गांधी के राजनीति में प्रवेश से कार्यकर्ताओं में नया जोश और नई उम्मीद है। ऐसे उम्मीद जताई जा रही है कि कांग्रेस अब उत्तर प्रदेश में महागठबंधन और भारतीय जनता पार्टी को कड़ी टक्कर देगी? क्योंकि जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी तो भारतीय जनता पार्टी के खेमें से प्रतिक्रियाएं आईं और बौखलाहट भी दिखी थी। अब इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कांग्रेस के लिए प्रियंका गांधी गेम चेंजर साबिक होंगी। भाजपा की ओर से आईं प्रतिक्रियां में इसे परिवारवाद की मिसाल, तो कहीं यह बताया गया है कि राहुल गांधी विफल साबित हुए हैं इसलिए उन्होंने प्रियंका गांधी को सामने लाया गया है। फिलहाल प्रियंका गांधी अब राजनीति में आ चुकी हैं, रोड शो भी कर चुकी हैं। मैराथन बैठक भी कर ली हैं।

रोड शो में उमड़ा जन सैलाब

राजनीति में प्रवेश करने के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मेगा रोड शो किया था। एक महासिचव के रोड शो में लोगों का इतना हुजूम उमड़ना हैरान करने वाला है। रोड शो से पहले लखनऊ में उनके स्वागत के लिए जहग जहग पोस्टर लगाए गए थे। जिसमे कैप्शन में लिखा था 'आ गई बदलाव की आंधी राहुल संग प्रियंका गांधी', 'वो इंदिरा, वो दुर्गा का फिर नया आगाज है, ये हिंद की है शेरनी हिन्दुस्तान की आवाज है'। लोगों के अंदर इस तरह का जोश देखकर अंदाजा तो लगाया जा सकता है कि इस बार का चुनाव दिलचस्प होने जा रहा है।

क्योंकि कांग्रेस, सत्ता पर काबिज भाजपा और महागठबंधन के खिलाफ चुनाव लड़ने जा रहा है। जनता प्रिंयका गांधी में इंदिरा गांधी की झलक देख रही है। प्रियंका गांधी आम चुनावों में अपनी क़ाबिलियत को साबित करते हुए चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना करेंगी। उम्मीद हैं कि प्रियंका गांधी कांग्रेस के लिए तरुप का पत्ता साबित होंगी और भाजपा और महागठबंधन को कड़ी टक्कर देने में कामयाब रहेंगी।

Share it
Top