Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तीसरे चरण के लिए नामांकन शुरू, प्रत्याशियों के खर्चे पर आयोग की रहेगी नजर

लाेकसभा चुनाव में तीसरे चरण के लिए नामांकन की शुरूआत हाे गई है। नामांकन दाखिले के साथ ही प्रत्याशी निर्वाचन आयाेग की निगाहाें में आ जाएंगे। प्रत्याशियाें के खर्च का आंकलन करने और पैसाें के लेनदेन पर निगरानी के लिए आयाेग ने खासी तैयारी की है।

तीसरे चरण के लिए नामांकन शुरू, प्रत्याशियों के खर्चे पर आयोग की रहेगी नजर

लाेकसभा चुनाव में तीसरे चरण के लिए नामांकन की शुरूआत हाे गई है। नामांकन दाखिले के साथ ही प्रत्याशी निर्वाचन आयाेग की निगाहाें में आ जाएंगे। प्रत्याशियाें के खर्च का आंकलन करने और पैसाें के लेनदेन पर निगरानी के लिए आयाेग ने खासी तैयारी की है।

नकद पैसे और मतदाताओं काे प्रलाेभन के लिए उपयाेग किए जाने वाले सामान काे राेकने सिर्फ रायपुर में ही 17 निगरानी दलाें काे तैनात किया गया है। साथ ही एक विधानसभा में कम से कम 3 उड़नदस्ता दलाें काे संदिग्ध पैसे और उपहाराें काे राेकने की जिम्मेदारी दी गई है। इतना ही नहीं, वीडियाे और लेखा दल भी बनाए गए हैं।

इसके बावजूद प्रत्याशियाें द्वारा तय सीमा से अधिक खर्च करने, खर्चाें काे छुपाने या मतदाताओं काे प्रलाेभन देने की शिकायत मिली ताे उनके घर व चुनाव कार्यालय में भी कैमरे लगाए जा सकते हैं।

विधानसभा के बाद लाेकसभा चुनाव में भी निर्वाचन आयाेग ने चुनावी खर्चाें से लेकर मतदाताओं काे प्रलाेभन देने जैसी विकृतियाें काे राेकने के लिए खासी तैयारी की है। चुनाव प्रचार के दाैरान प्रयाेग किए जाने वाले सामानाें की कीमतें पहले ही तय कर दी गई हैं।

अब प्रचार के दाैरान हाेने वाले सभाओं या अन्य कार्यक्रमाें में इनके प्रयाेग पर नजर रखने के लिए वीडियाे निगरानी दलाें के साथ लेखा दल भी तैनात हाेगी। लेखा दल हर कार्यक्रम के दाैरान प्रयाेग किए गए सामानाें का हिसाब कर अपने लेखे आयाेग काे साैंपेगा।

अगर प्रत्याशी के हिसाब में इन खर्चाें का हिसाब नहीं दिया जाएगा, ताे आयाेग अपनी टीम से मिले हिसाब काे ही अंतिम मानेगा और इसे प्रत्याशी के चुनाव खर्च में जाेड़ दिया जाएगा। राजनीतिक दलाें से अलग खासताैर पर प्रत्याशी द्वारा किए जा रहे खर्चाें पर आयाेग की निगाहें हाेंगी। निर्वाचन कार्य में लगे व्यय पर्यवेक्षक भी इसकी निगरानी करेंगे।

नकद मिले ताे देना हाेगा हिसाब

तीसरे चरण की अधिसूचना जारी होते ही स्थैतिक निगरानी दलों को अलर्ट मोड में रखा गया है। 50 हजार से अधिक नकद राशि लेकर चलने वाले लोगों को इसका ब्यौरा देना होगा। इतना ही नहीं, 10 लाख से अधिक नकदी रखने पर आयकर विभाग के माध्यम से इसके स्त्रोतों की भी जानकारी जुटाई जाएगी।

प्रत्याशी को अपने अधिकतर खर्च नामांकन दाखिले के पहले खोले गए बैंक खातों से ही करनी होगी। किसी अन्य खाते से खर्च किए जाने पर भी आयोग प्रत्याशियों पर शिकंजा कसेगा।

नामांकन के पहले 48 लाख के सामान जब्त

लाेकसभा चुनाव में निर्वाचन आयोग की सख्ती का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि तीसरे चरण में नामांकन की शुरुआत होने के पहले ही 48 लाख रुपए से अधिक के नकद, शराब और मतदाताओं को प्रलोभन में उपयोग किए जाने वाले सामान जब्त किए जा चुके हैं।

इनमें 24 लाख रुपए नकद, 4 लाख से अधिक कीमत की 2 हजार लीटर शराब, लैपटॉप, साड़ी, प्रेशर कुकर समेत कई सामान जब्त किए गए हैं। इनकी कीमत 20 लाख 41 हजार 35 रुपए हैं। इस तरह अब तक 48 लाख 89 हजार 102 रुपए के सामान जब्त किए गए हैं।

वोटर को किया परेशान तब भी नपेंगे

लोकसभा चुनाव के दौरान प्रत्याशी सिर्फ अधिक खर्च, आचारसंहिता के उल्लंघन पर ही नहीं, गलत ढंग से मतयाचना पर भी नप सकते हैं। निर्वाचन आयोग ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि रात 10 बजे के बाद और सुबह 6 बजे के पहले कोई भी मतयाचना नहीं कर सकेगा।

अगर इस अवधि में काेई भी प्रत्याशी मतयाचना करता पाया गया, तो उससे जवाब मांगा जा सकता है। वर्तमान में देर रात तक जनसंपर्क और अलसुबह मॉर्निंग वॉकर्स से मिलने की होड़ मची है, लेकिन ऐसा करना प्रत्याशियाें काे भारी पड़ सकता है।

होगी निगरानी

व्यय निगरानी के लिए रायपुर में 17 स्थैतिक निगरानी टीम बनाई गई है। विधानसभाओं के अनुसार उड़नदस्ते भी तैनात किए गए हैं। वीडियाे और लेखा दलाें काे जिम्मेदारी दी गई है। अगर किसी प्रत्याशी के संबंध में गंभीर शिकायत मिलती है या पर्यवेक्षक आवश्यकता समझेंगे ताे उनके कार्यालय में भी कैमरे लगाए जा सकते हैं।- राजीव कुमार पांडेय, उपजिला निर्वाचन अधिकारी

Next Story
Top