Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019 : राफेल डील में वाड्रा कनेक्शन, जानें इस डील की पूरी डिटेल

36 राफेल लड़ाकू विमानों का भारत और फ्रांस के बीच उस वक्त सौदा हुआ जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फ्रांस दौरे पर गए थे। करीब 59 हजार करोड़ रुपये के सौदे के में दोनों देशों के बीच जो समझौते हुए है उसके मुताबिक सभी 36 विमान 66 महीने के भीतर भारत आ जाएंगे। इसे लेकर विपक्ष की तरफ से कई तरह के सवाल उठाए गए...

लोकसभा चुनाव 2019 : राफेल डील में वाड्रा कनेक्शन, जानें इस डील की पूरी डिटेल

36 राफेल लड़ाकू विमानों का भारत और फ्रांस के बीच उस वक्त सौदा हुआ जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फ्रांस दौरे पर गए थे। करीब 59 हजार करोड़ रुपये के सौदे के में दोनों देशों के बीच जो समझौते हुए है उसके मुताबिक सभी 36 विमान 66 महीने के भीतर भारत आ जाएंगे। इसे लेकर विपक्ष की तरफ से कई तरह के सवाल उठाए गए...

ऐसा था राफेल का सौदा

यूपीए डील

2007 में डील शुरू हुई

126 मीडियम मल्टी रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट को खरीदने की प्रक्रिया शुरू की थी।

सौदा नहीं हुआ

2014 की शुरुआत तक वार्ता जारी रही लेकिन सौदा नहीं हो सका।

526 करोड़ का 1 विमान

यूपीए सरकार ने संकेत दिया था कि सौदा 10.2 अरब अमेरिकी डॉलर का होगा। प्रत्येक विमान की दर एवियोनिक्स और हथियारों को शामिल करते हुए 526 करोड़ रुपये (यूरो विनिमय दर के मुकाबले) बताई थी।

एनडीए डील

रफाल खरीदी की घोषणा

10 अप्रैल को फ्रांस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 36 राफेल विमान खरीदने की घोषणा की

सौदा तय, हस्ताक्षर किए

23 दिसंबर 2016 को 7.87 अरब यूराे (लगभग 59000 करोड़) का सौदा हुआ।

आपूर्ति 2019 को

मोदी और तत्कालीन फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांद के बीच वार्ता के बाद एक संयुक्त बयान में कहा गया कि वे एक अंतर सरकारी समझौता करने पर सहमत हुए। इसके आधार पर 36 राफेल जेट की आपूर्ति सितंबर 2019 से शुरू होगी।

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट में सरकार (rafale deal and supreme court)

सुप्रीम कोर्ट ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे के मामले में अपने फैसले पर पुनर्विचार की मांग वाली याचिकाओं पर सुनवाई शुरू की। मामले की सुनवाई के दौरान अटार्नी जनरल ने कोर्ट से कहा कि साक्ष्य अधिनियम के प्रावधानों के तहत कोई भी संबंधित विभाग की अनुमति के बिना अदालत में गोपनीय दस्तावेज पेश नहीं कर सकता।

राफेल डील में वाड्रा कनेक्शन (Rafale Deal Connection With Robert Vadra)

बीजेपी ने राफेल डील के कनेक्शन के बीच राबर्ट वाड्रा का नाम भी जोड़ दिया है। साथ ही संजय भंडारी के नाम का भी जिक्र किया है। बीजेपी ने आरोप लगाया है कि यूपीए सरकार के दौरान वाड्रा के दबाव में ही राफेल से डील नहीं हो पाई थी. बीजेपी का आरोप है कि वाड्रा के आर्म्स डीलर संजय भंडारी से करीबी रिश्ते हैं।

कैग की रिपोर्ट (rafale deal cag report)

राफेल का सौदा 2.86% सस्ता

राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने रिपोर्ट संसद में पेश कर कीमत का खुलासा किये बिना कहा कि यह सौदा पूर्ववर्ती यूपीए सरकार के समय किए गए सौदे से कुल 2.86% सस्ता है।

1- राफेल अनुबंध में कुल 14 वस्तुओं के साथ छह अलग-अलग पैकेज शामिल थे।

2- राफेल सौदे में विमान समेत तीन सामान एक ही कीमत पर खरीदे। चार अन्य को कम लागत में खरीदा गया।

3- रक्षा मंत्रालय ने कहा 2016 के 36 बेसिक फ्लाईअवे राफेल विमानों की कीमत 2007 की कीमत से 9% कम है।

4- कैग ने बताया कि 2007 में डसॉल्ट एविएशन द्वारा की गई पेशकश में परफोर्मेंस व वित्तीय गारंटी दी गई थी।

5- राफेल में बदलावाें को लेकर कैग ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि इन बदलावों में चार की जरूरत नहीं थी।

6- 2007 के कॉन्ट्रैक्ट में 126 राफेल विमानों में से 108 फाइटर जेट के उत्पादन के लिए एचएएल का हस्तांतरण शामिल था।

7- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कई बार यह आरोप लगाते रहे हैं कि कॉन्ट्रैक्ट को एचएएल से छीनकर रिलायंस डिफेंस को दे दिया गया।

9- सॉवरेन गारंटी के मुद्दे पर कैग रिपोर्ट कहती है कि फ्रांसीसी पक्ष भारत की मांग से सहमत नहीं था। फ्रांस सरकार से भारत को एक लेटर ऑफ कम्फर्ट के साथ समझौता करना पड़ा।

10- रिपोर्ट के अनुसार, इंजीनियरिंग संबंधी पैकेज और प्रदर्शन के आधार पर हर तरह के साजो सामान के संदर्भ में यह सौदा हालांकि 6.54 फीसदी महंगा है।

राहुल गांधी का सवाल

राहुल गांधी ने कहा जो राफेल यूपीए के वक्त खरीदा जाना था उसकी कीमत 526 करोड़ थी, जब प्रधानमंत्री फ्रांस गए और राष्ट्रपति ओलांद से मिले तो एक नयी डील हुई जिसके तहत एक विमान की कीमत 526 करोड़ से 1600 करोड़ हो गयी तो अगला सवाल है कि आखिर क्यों विमान की कीमत 526 से 1600 करोड़ हो गयी ?

अरुण जेटली का जवाब

वित्त मंत्री जेटली ने जवाब दिया कि ये 500 बनाम 1600 का कारण ये है कि इस देश में कुछ लोग और कुछ परिवार ऐसे हैं जिनको पैसे का गणित समझ आता है देश की सुरक्षा के साथ जुड़े हुए मुद्दे नहीं। मैं ये कह सकता हूं कि सिर्फ विमान की कीमत 2016 की तारीख में यूपीए के दाम से 9% सस्ता था, हथियारों के साथ विमान का दाम यूपीए के दाम से 20% सस्ता थी।

सरकार का दावा

भारत

36 राफेल की कीमत 58 करोड़

1 रफाल की कीमत 1116 करोड़

मिस्त्र

24 राफेल की कीमत 42 करोड़

1 रफाल की कीमत 1750 करोड़

कतर

24 राफेल की कीमत 50 करोड़

1 रफाल की कीमत 2083 करोड़

Loading...
Share it
Top