Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लोकसभा टिकट न मिलने से नाराज हुआ कांग्रेस विधायक, पार्टी दफ्तार से उठवाईं 300 कुर्सियां

लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान होने के बाद से राजनीतिक पार्टियों में टिकट के बंटवारे को लेकर खींचातानी जारी है। इसी क्रम में महाराष्ट्र से एक नया मामला सामाने आया है।

लोकसभा टिकट न मिलने से नाराज हुआ कांग्रेस विधायक, पार्टी दफ्तार से उठवाईं 300 कुर्सियां

लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान होने के बाद से राजनीतिक पार्टियों में टिकट के बंटवारे को लेकर खींचातानी जारी है। इसी क्रम में महाराष्ट्र से एक नया मामला सामाने आया है।

लोकसभा टिकट न मिलने से नाराज कांग्रेस विधायक पार्टी का गुस्सा इस कदर फूटा कि वह पार्टी कार्यालय से अपने समर्थकों के साथ 300 कुर्सियां ले गया। खबर है कि सिलोद से कांग्रेस विधायक अब्दुल सत्तार ने कांग्रेस से सेंट्रल महाराष्ट्र से टिकट मांग की थी लेकिन पार्टी ने टिकट नहीं दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टिकट न मिलने से नाराज अब्दुल सत्तार पार्टी कार्यलाय से 300 कुर्सियां ले गए और कहा कि उन्होंने पार्टी छोड़ दी है। साथ ही यह भी दावा किया कि कुर्सियां उन्हीं की थीं।

बता दें कि कांग्रेस ने सेंट्रल महाराष्ट्र से एमएलसी सुभाष झांबड को उतारने का फैसला लिया है। जैसे ही इस बात की जनाकारी विधायक अब्दुल सत्तार को लगी तो वह बेहद नाराज हो गए। तत्काल वह अपने समर्थकों के साथ कार्यालय पहुंचे और कुर्सियों को हटवा लिया।

कांग्रेस की स्थानीय इकाई ने एनसीपी के साथ शाहगंज के अपने कार्यालय गीता भवन में संयुक्त मीटिंग बुलाई थी। लेकिन नाराज विधायक ने कार्यालय से कुर्सियों को हटवा लिया। जिसके बाद एनसीपी के कार्यालय में बैठक आयोजित की गई।

एक समाचार एजेंसी के मुताबिक अब्दुल सत्तार ने कहा कि हां मैंने कार्यलाय से कुर्सियों को हटावा है क्योंकि वह मेरी थी। मैंने अब पार्टी को छोड़ दिया है इसलिए मैं अपनी कुर्सी भी ले गया। पार्टी ने जिन्हे टिकट दिया है उन्हें ही कुर्सियों की व्यवस्था करनी चाहिए।

एमएलसी सुभाष झांबड ने अब्दुल सत्तार के बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उन्हें कुर्सियों की जरूरत रही होगी इसलिए वे कुर्सियों को ले गए। उनके इस कदम से हम कतई नाराज नहीं हैं। पार्टी ने अभी तक उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है, वो अभी कांग्रेस में ही हैं।

Next Story
Top