Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्या राजस्थान में भाजपा की नैया पार करा सकेंगे गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला, ये है अमित शाह का नया प्लान

राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से मिली करारी शिकस्त के बाद भाजपा ने लोकसभा चुनाव को लेकर नई चाल चली है। राजस्थान के कद्दावर गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला और उनके बेटे विजय बैंसला पार्टी में शामिल हो गए हैं। जिसके बाद राज्य में भाजपा की जीत के बड़ी समीकरण लगाए जा रहे हैं।

क्या राजस्थान में भाजपा की नैया पार करा सकेंगे गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला, ये है अमित शाह का नया प्लान

राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से मिली करारी शिकस्त के बाद भाजपा ने लोकसभा चुनाव को लेकर नई चाल चली है। इस बार चुनाव में कोई कमी ना रह जाए इसलिए पार्टी ने यहां हर वर्ग को साधने का नया प्लान बनाया है। बुधवार को राजस्थान के कद्दावर गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला और उनके बेटे विजय बैंसला ने भाजपा का दामन थाम लिया है। केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की मौजूदगी में पार्टी कार्यालय दिल्ली में उन्होंने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

किरोड़ी सिंह सेना की राजपुताना राइफल्स की ओर से 1962 की भारत-पाक युद्ध में लड़ाई लड़े थे। कर्नल के पद से रिटायर होने के बाद वे गुर्जर समुदाय के लोगों के हक के लिए लड़ना शुरु किए।
बैंसला ने बताया कि वे पिछले 14 सालों से गुर्जर आरक्षण के आन्दोलन से जुड़ा हूं। राजस्थान के दो मुख्यमंत्रियों के कार्यशैली को बड़े करीब से देखा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बहुत ज्यादा प्रभावित हूं। वे सभी का दुख-दर्द समझते हैं। इसी कारण मैं भाजपा में शामिल हुआ। बस पिछड़ों को आरक्षण का लाभ मिले, मुझे कोई और लालच नहीं। ऐसा माना जाता रहा है कि विधान सभा में जिसकी सरकार रहती है वहीं लोकसभा के चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करता है।
अब देखना यह है कि किरोड़ी सिंह के भाजपा में शामिल होने से पिछड़ों का कितना वोट भाजपा साथ सकती है। इधर सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे बैंसला के पार्टी में शामिल होने से नाराज हैं।

जाट बहुल क्षेत्रों में भाजपा कितना मजबूत?

राजस्थान के मारवाड़ क्षेत्र के नागौर, बाड़मेर, जोधपुर, जालोर, पाली और सीकर जिलों में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) का मजबूत पकड़ माना जाता है। यहां पर जाट और गुर्जर मतदाता निर्णायक भूमिका निभाते हैं। इसी वजह से भाजपा ने आरएलपी से गठबंधन किया है।
वहीं हनुमान बेनीवाल और किरोड़ी सिंह बैंसला के आने से भाजपा का इन क्षेत्रों में मजबूत पकड़ बताई जा रही है। बता दें कि गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला गुर्जर समुदाय के लिए सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर प्रयासरत हैं।
Next Story
Top