Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जल्लीकट्टू: CM ओ पनीरसेल्वम को करना पड़ा विरोध का सामना

जल्लीकट्टू अध्यादेश को कानून बनाने के लिए यह 23 जनवरी को विधानसभा में पेश किया जाएगा।

जल्लीकट्टू: CM ओ पनीरसेल्वम को करना पड़ा विरोध का सामना
चेन्नई. तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में जल्लीकट्टू का आयोजन शुरू हो चुका है। तमिलनाडु के राज्यपाल विद्यासागर राव ने जल्लीकट्टू के अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम ने अलनगनल्लुर में जल्लीकट्टू की शुरुआत कर दी है। जल्लीकट्टू अध्यादेश को कानून बनाने के लिए यह 23 जनवरी को विधानसभा में पेश किया जाएगा। तमिलनाडु सीएम पन्नीरसेल्वन को विरोध का सामना करना पड़ा, जिसके बाद वह अलंगनल्लूर में जलीकट्टू समारोह का उद्घाटन नहीं कर सके और मदुरै से वापस चेन्नै लौटे।
जल्लीकट्टू के समर्थन में उतरे लोग अभी भी मैदान में डटे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि राज्य में जल्लीकट्टू जब तक मना नहीं लिया जाता तब तक तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा। गौरतलब है कि अध्यादेश की मंजूरी के लिए डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन ने शनिवार को जल्लीकट्टू के समर्थन में ट्रेन रोको आंदोलन के बाद अब एक दिन का भूख हड़ताल शुरू किया है। इस भूख हड़ताल के लिए स्टालिन के अलावा कई दूसरे लीडर्स भी सपोर्ट में उतरे हैं।
दरअसल, बीते शुक्रवार को डीमके के प्रदर्शनकारियों ने चेन्नई के माम्बलम रेलवे स्टेशन पर 'रेल रोको आंदोलन' के तहत ट्रेन रोक दी थी। लेकिन ट्रेन रोकने के बाद स्टालिन को एहतियातन हिरासत में लिया गया था, लेकिन बाद में उसे छोड़ दिया गया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top