Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अमेरिका में भारतीय दूतावास की टेलीफोन लाइनों से छेड़छाड़ कर लोगों को चूना लगाने का मामला आया सामने

अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास की ओर से जारी एक परामर्श के मुताबिक, गड़बड़ी करने वालों ने पैसों की खातिर आम लोगों को चूना लगाने के लिए मिशन की टेलीफोन लाइनों से छेड़छाड़ की है।

अमेरिका में भारतीय दूतावास की टेलीफोन लाइनों से छेड़छाड़ कर लोगों को चूना लगाने का मामला आया सामने
X

अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास की ओर से जारी एक परामर्श के मुताबिक, गड़बड़ी करने वालों ने पैसों की खातिर आम लोगों को चूना लगाने के लिए मिशन की टेलीफोन लाइनों से छेड़छाड़ की है। भारतीय दूतावास ने इस बाबत अमेरिका सरकार को सूचित कर इस मामले में अपनी अंदरूनी जांच भी शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें- CBI करेगी ‘धनुष' के लिए चीनी उत्पाद की आपूर्ति के मामले की जांच

दूतावास ने लोगों से पैसे ठगने वाले फर्जी कॉलों पर एक सार्वजनिक परामर्श किया। ऐसी धोखाधड़ी कर रहे लोगों की करतूतों के कारण राजनयिक मिशन बदनाम हो रहा है।

अपने परामर्श में भारतीय दूतावास ने कहा, ‘‘गड़बड़ी करने वालेये लोग क्रेडिट कार्ड वगैरह जैसी निजी सूचनाएं हासिल करते हैं या भारतीय मूल के लोगों को फोन करके दावा करते हैं कि उनके पासपोर्ट, वीजा फॉर्म या आव्रजन फार्म में गड़बड़ी है जिसे कुछ कीमत चुकाकर ठीक कराया जा सकता है। वे यह भी कहते हैं कि इन खामियों को ठीक नहीं किया गया तो आपका वीजा रद्द हो सकता है, उन्हें भारत वापस भेजा जा सकता है या अमेरिका में जेल हो सकती है।'

अमेरिका में रह रहे भारतीय नागरिकों में से कुछ को ऐसी कॉल आई और उन्होंने दूतावास को इससे अवगत कराया कि कुछ धोखेबाज भारतीय दूतावास की टेलीफोन लाइनों में गड़बड़ी कर लोगों को फोन कर रहे हैं और उन्हें चूना लगा रहे हैं। इनमें से कुछ कॉलों को दूतावास से किए गए टेलीफोन नंबर की तरह दिखाया गया जबकि अन्य में दूतावास की पहचान का इस्तेमाल किया गया।

ये भी पढ़ें- राजस्थान के राज्यपाल को स्वाइन फ्लू, तीन बार जांच के बाद हुई पुष्टि

कुछ मामलों में इन गड़बड़ी करने वालों ने यह दावा भी किया कि उन्हें दूतावास या भारत में अन्य अधिकारियों से ऐसी सूचना मिली। वीजा आवेदकों को भी ऐसे कॉल आए और कहा गया कि उन्हें दूतावास से कॉल किया जा रहा है। भारतीय दूतावास ने लोगों से वेस्टर्न यूनियन खाता संख्या या उन बैंक खातों का ब्योरा सहित अन्य सूचनाएं इकट्ठा करना शुरू कर दिया है जहां धन अंतरित किया गया।

अपने परामर्श में भारतीय दूतावास ने कहा कि उसका कोई अधिकारी कोई टेलीफोन कॉल करके किसी भारतीय या विदेशी नागरिक से निजी सूचनाएं नहीं मांगता।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story