Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हैकर्स का अगला शिकार है देश की संसद

अमेरिका में ''लीजन ऑफ डूम'' (LOD) नाम का एक मशहूर हैकर ग्रुप था।

हैकर्स का अगला शिकार है देश की संसद
नई दिल्ली. विजय माल्या, राहुल गांधी और कुछ पत्रकारों के ट्विटर अकाउंट हैक करने वाले हैकर ग्रुप 'लीजन' की नजर अब सरकारी वेबसाइट sansad.nic.in पर है। यह साइट सरकारी कर्मचारियों को ईमेल सर्विसेज मुहैया करवाती है। लीजन के एक सदस्य ने factordaily.com के साथ हुए चैट इंटरव्यू में बताया, 'अगला निशाना sansad.nic.in होगी, जो कि काफी बड़ा निशाना है। इसमें कई बड़ी मछलियां हैं।'
एक एनक्रिप्टेड इंस्टेंट-मेसेजिंग सॉफ्टवेयर के माध्यम से सोमवार को वॉशिंगटन पोस्ट को दिए एक साक्षात्कार में लीजन ने कहा कि यह समूह अपोलो हॉस्पिटल्स के सर्वर तक अपनी पहुंच बना चुका है, पर उन सर्वरों से मिले आंकड़ों को जारी करने को लेकर अभी कुछ तय नहीं किया गया है, क्योंकि इससे भारत में हड़कंप मच सकता है।
यह दावा करते हुए कि उसके पास सभी सर्वरों की जानकारी है, लीजन ने कहा कि उसे अपोलो अस्पताल चेन के बारे में भी सबकुछ पता है, जहां स्वर्गीय जयललिता भर्ती थीं। लीजन ने दावा किया कि भारतीय बैंकिंग सिस्टम भी साइबर हमलों के निशाने पर है। फैक्ट्रीडेली और वॉशिंगटन पोस्ट के साथ इंटरव्यू में लीजन ने बेसिक डेटा स्कियॉरिटीज जैसे पहलुओं पर भी खुलकर बातचीत की।
एनबीटी के अनुसार, वॉशिंगटन पोस्ट में विदेशी मामलों के बारे में लिखने वाले मैक्स बिराक ने कहा, ‘जब मैंने उनसे पूछा कि उनके पास इतना सारा आंकड़ा कैसे पहुंचा, तो उन्होंने कहा कि उन्होंने भारत के 40,000 से अधिक सर्वरों को हैक किया।’ लीजन ने कहा, ‘यह तो केवल शुरुआत भर है। आने वाले कुछ दिनों में और भी आंकड़े सामने आएंगे। हम 'लीजन' हैं।'
कौन है 'लीजन'?'
विजय माल्या, राहुल गांधी और दो वरिष्ठ पत्रकारों के आधिकारिक ट्विटर हैंडल हैक करने वाला लीजन धीरे-धीरे कुख्यात होता जा रहा है। अगर हम लीजन नाम पर गौर करें तो अमेरिका में 'लीजन ऑफ डूम' (LOD) नाम का एक मशहूर हैकर ग्रुप था। इस हैकर ग्रुप की स्थापन लेक्स लुथर ने की था, जो 1990 के दशक से 2000 के शुरुआती दशक तक सक्रिय थे।
LOD को टेक्नॉलजी के इतिहास के सबसे ज्यादा प्रभावशाली हैकिंग ग्रुप में से एक माना जाता है। हालांकि, अभी यह नहीं कहा जा सकता कि यह लीजन वास्तव में 'लीजन' ऑफ डूम' से प्रेरित है या नहीं, लेकिन यह बहुत ही प्रभावशाली है और भारत समेत दुनिया में कहीं भी साइबर अटैक को अंजाम दे सकता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top