Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

‘प्रभु राज’ में तीन गुना बढ़ीं ट्रेनों की समस्या

रेल मंत्री ने अधिकारियों को फटकारते हुए कहा कि अगर ट्रेनों की लेटलतीफी जारी रही तो अधिकारी इसका अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें।

‘प्रभु राज’ में तीन गुना बढ़ीं ट्रेनों की समस्या

ट्रेन के लगातार लेटलतीफी से परेशान रेल मंत्री सुरेश प्रभु सख्त हो गए हैं। उन्होंने रेलवे बोर्ड के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि सभी ट्रेनों को समय पर चलाएं।

रेल मंत्री ने अधिकारियों को फटकारते हुए कहा कि अगर ट्रेनों की लेटलतीफी जारी रही तो अधिकारी इसका अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें।

रेल मंत्री ने मीडिया में ट्रेनों के लेट लतीफी की खबरें आने के बाद यह आदेश दिया है। दरअसल, ट्रेन सुविधा डॉट कॉम ने पिछले चार सालों में 1 जनवरी से 31 मार्च के बीच ट्रेनों की लेट लतीफी पर एक रिपोर्ट जारी किया है।

इस रिपोर्ट में साल 2017 में ऐसी ट्रेनों की संख्या साल 2015 के मुकाबले तीन गुना बढ़ गई है जो 15 घंटे से ज्यादा लेट हुए हैं। साल 2015 में 15 घंटे से ज्यादा लेट होने वाली ट्रेनों की संख्या 479 थी जो 2017 में बढ़कर 1337 हो गई।

इन ट्रेनों में देश की सबसे अहम राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनें भी शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार बिहार से चलने या गुजरने वाली लगभग 10 ट्रेने लेट चलती है।

आपको बता दें कि स्वतंत्रता सेनानी एक्स्प्रेस, उद्यान आभा तूफान एक्सप्रेस, बरौनी-ग्वालियर मेल, दिल्ली से डिब्रूगढ़ जाने वाली ब्रह्मपुत्र मेल, मगध एक्सप्रेस, भागलपुर गरीब रथ एक्सप्रेस, अमृतसर-हावड़ा एक्सप्रेस, पटना-मथुरा एक्सप्रेस रोज लेट चलती है।

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि लेटलतीफी के मामले में सबसे खराब हालत झाँसी, जबलपुर, वाराणसी, मुंबई, इलाहाबाद, दानापुर और समस्तीपुर डिवीजन में है।

Next Story
Top