Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बीते पांच साल में यमुना एक्सप्रेसवे 548 लोगों के लिए साबित हुआ मौत का रास्ता

बीते पांच सालों में इस एक्सप्रेस-वे लगभग 548 लोगों की जान जा चुकी है।

बीते पांच साल में यमुना एक्सप्रेसवे 548 लोगों के लिए साबित हुआ मौत का रास्ता
नई दिल्ली. आए दिन दिल्ली से आगरा के बीच बने यमुना एक्सप्रेस-वे पर हादसे होते ही रहते हैं। आज यमुना एक्सप्रेस-वे को बने पूरे पांच साल हो चुके हैं। इन पांच सालों में इस एक्सप्रेस वे पर 548 लोगों की जाने जा चुकी हैं।
बता दें कि एक आरटीआई के तहत इस बात का खुलासा हुआ है कि अगस्त 2012 से साल 2016 तक यमुना एक्सप्रेस-वे पर 548 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। बीते पांच सालों में यमुना एक्सप्रेस-वे पर 4054 ज्यादा हादसें हो चुके हैं।
आगरा डेवलपमेंट फाउंडेशन के सचिव केसी जैन को आरटीआई के जरिए बताया कि 2012 में 275 दुर्घटनाएं हुई जिसमें 33 लोगों की मौत हुई। वहीं 2013 में हुई 896 दुर्घटनाओं में 118 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। 2014 में 771 दुर्घटनाएं हुई जिसमें 127 लोगों जान चली गई।
तो वहीं साल 2015 में 919 दुर्घटनाएं हुई जिसमें 142 लोग की जान गई जबकि पिछले साल 2016 में 1193 दुर्घटनाएं हुई और इसमें भी 128 लोग रोड़ एक्सीडेंट का शिकार हुए। एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2015 में एक्सप्रेस वे से 62 लाख वाहन गुजरे। लेकिन सिर्फ 8 हजार लोगों के चालान काटे गए। इन हादसों का प्रमुख कारण गाड़ियों की रफ्तार है। जिसकी वजह से आए दी ये हादसे होते रहते हैं।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top