Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भीमा कोरेगांव मामला: विपक्ष हुआ एकजुट, खतरे में देश का संविधान

भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ्तारी के बाद से यह मामले ने तूल पकड़ लिया है। सुरक्षा एजेंसी इसे गंभीर खतरा मान रही वहीं विपक्ष इसे लोकतंत्र पर हमला बता रहा है। इस मामले में कई विपक्षी नेताओं ने बयान दिया है।

भीमा कोरेगांव मामला: विपक्ष हुआ एकजुट, खतरे में देश का संविधान

भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ्तारी के बाद से यह मामले ने तूल पकड़ लिया है। सुरक्षा एजेंसी इसे गंभीर खतरा मान रही वहीं विपक्ष इसे लोकतंत्र पर हमला बता रहा है। इस मामले में कई विपक्षी नेताओं ने बयान दिया है।

आरजेडी के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भीमा कोरेगांव मामले में कहा कि जिस तरह से पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है उससे यह पता चलता है कि देश इमरजेंसी की तरफ जा रहा है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव ने आगे कहा की मैं इस घटना की निंदा करता हूं। देश में तानाशाही रवैया अपनाया जा रहा है।

इधर मायावती ने भी भीमा कोरेगांव मामले पर कहा कि दलितों की आवाज को दबाई जा रही है। बसपा ने बयान जारी कर कहा कि एक्टिविस्टों को जिस तरह से गिरफ्तार किया गया है यह दलितों के खिलाफ उत्पीड़न है। भाजपा सत्ता और स्वतंत्रता का शोषण कर रही है।

भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ्तारी पर आप नेताओं ने भी मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने बताया मोदी राज में यह लोकतंत्र पर हमला है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस मामले में मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि भारत में सिर्फ एक ही एनजीओ चलेगा वह है आरएसएस। सारे एक्टिविस्ट को गोली मार दो या जेल में डाल दो।

आपको बता दें कि भीमा कोरेगांव मामले में देश में कई जगहों पर कल छानबीन और गिरफ्तारी का दौर चला है। इसके बाद से विपक्ष इस मामले को उठा रहा है। विपक्ष का कहना है कि इस मामले में बिना किसी सबूत के गिरफ्तारी की गई है।

विपक्ष का यह भी कहना है कि जिस तरह से यह कार्रवाई की जा रही है यह रवैया गलत है। हालांकि सुरक्षा एजेंसी भीमा कोरेगांव मामले को पीएम मोदी की जान का खतरा से जोड़ कर देख रही है।

Next Story
Top