Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

GST पेशेवरों को मिलेगा दोगुना बोनस, सैलरी में भी 25 से 30 फीसदी बढ़ोतरी

जीएसटी में समझ रखने वाले लोगों को जीएसटी टीम में शामिल किया जा रहा है

GST पेशेवरों को मिलेगा दोगुना बोनस, सैलरी में भी 25 से 30 फीसदी बढ़ोतरी

जीएसटी (गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स) के पेशेवरों के लिए अच्छी खबर है। जीएसटी में समझ रखने वाले लोगों को जीएसटी टीम में शामिल किया जा रहा है। इंडस्ट्री के अधिकारी वर्ग के मुताबिक, पीडब्ल्यूसी, केपीएमजी, ईवाई, डेलॉइट और ग्रांट थॉरटॉन जैसी कंपनियां जीएसटी की समझ रखने वाले अपने कर्मचारियों को जीएसटी टीम में शामिल होने पर 25 से 30 फीसदी तक सैलरी में बढ़ोतरी दे रहीं हैं।

लेकिन भारत में कंपनियों के कर्मचारियों की सैलरी में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं की गई है। जबकि भारत में सैलरी की औसतन बढ़ोतरी करीब 12 फीसदी हो पाई है।
देश का सबसे बड़ा टैक्स जीएसटी 1 जुलाई से लागू होने जा रहा है। जिसके बाद जीएसटी सर्विस फर्मों ने अपने ग्राहकों को बदलते व्यापार, टैक्स की गतिशीलता समझने, और इसके प्रभाव का मूल्यांकन करने और आवश्यक कार्रवाई करने के लिए एक बड़ा अवसर बनाया है। सैलरी के पुराने ट्रेंड को तोड़ते हुए जीएसटी पेशेवरों की सैलरी में अच्छी बढ़ोतरी के साथ-साथ बड़ा बोनस देने को कहा है।
जीएसटी लागू होने के बाद सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी, सर्विस टैक्स, एडिशनल कस्टम ड्यूटी (सीवीडी), स्पेशल एडिशनल ड्यूटी ऑफ कस्टम (एसएडी), वैट / सेल्स टैक्स, सेंट्रल सेल्स टैक्स, मनोरंजन टैक्स, ऑक्ट्रॉय एंड एंट्री टैक्स, परचेज टैक्स, लक्ज़री टैक्स खत्म हो जाएंगे।
जीएसटी लागू होने के बाद वस्तुओं एवं सेवाओं पर केवल तीन तरह के टैक्स वसूले जाएंगे। पहला सीजीएसटी, यानी सेंट्रल जीएसटी, जो केंद्र सरकार वसूलेगी। दूसरा एसजीएसटी, यानी स्टेट जीएसटी, जो राज्य सरकार अपने यहां होने वाले कारोबार पर वसूलेगी। तीसरा होगा वह जो कोई कारोबार अगर दो राज्यों के बीच होगा तो उस पर आईजीएसटी, यानी इंटीग्रेटेड जीएसटी वसूला जाएगा। इसे केंद्र सरकार वसूल करेगी और उसे दोनों राज्यों में समान अनुपात में बांट दिया जाएगा।
Next Story
Top