Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राष्ट्रपति भवन के बारें में ये 12 बातें कर देगीं हैरान

यह भारतीय जनतंत्र की सबसे शानदार इमारत है।

राष्ट्रपति भवन के बारें में ये 12 बातें कर देगीं हैरान

आज देश के लिए एक इतिहास बनने वाला दिन है। देश के 14वें राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद आज शपथ लेने वाले हैं। इस समय राष्ट्रपति भवन चर्चा में मौजूद हैं। उनके लिए चारों तरफ बधाई देने वाले और शुभचिंतकों का तांता लगा है।

इसी खास मौके पर आज हम आपके राष्ट्रपति भवन की खासियत बताने वाले हैं कि क्यों राष्ट्रपति भवन रायसीना हिल्स कहा जाता है।
आइए जानें इस शानदार इमारत की 12 खास बातें..
लुटियंस दिल्ली की सबसे शानदार इमारत की बात ही कुछ और है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के विस्तार की यह इमारत गवाह रही है। इस भवन में राष्ट्रपति के रूप में किसान के बेटे से लेकर, वैज्ञानिक और साधारण परिवार से आए लोग इसके मुखिया रह चुके हैं।
राष्ट्रपति भवन परिसर में संग्रहालय, उद्यान, समारोह कक्ष, कर्मचारियों और अंगरक्षकों के लिए अलग से जगह भी निर्धारित है।
आपको याद होगा कि आजादी से पहले इसे वायसराय हाउस भी कहा जाता था। लेकिन अब यह भारतीय जनतंत्र की सबसे शानदार इमारत है।
1- राष्ट्रपति भवन इटली क्यूरनल पैलेस के बाद दूसरा सबसे बड़ा निवास स्थान है। इस इमारत को बनाने में पूरे 17 साल लगे थे। इसको 1912 में बनाना शुरू किया गया था और 1929 में इसे ब्रिटिश सरकार को सौंप दिया गया। इसको बनाने में 29 हजार मजदूर और कर्मचारी लगे थे।
2- इस इमारत में 300 कमरे हैं। शुरू में दूसरे देशों के राष्ट्राध्यक्ष यहीं पर रुकते थे।
3- इसमें अभी 750 कर्मचारी काम करते हैं। 50 रसोइए नियुक्ति किए गए हैं। जो दुनिया भर के पकवान बनाने में महारत रखते हैं।
4- इस इमारत को बनाने के लिए माल्च गांवों के रायसीनी परिवार के लोगों की जमीनें अधिग्रहीत की गई थीं। यह गांव पहाड़ी पर था। तभी से इसे रायसीना हिल्स कहा जाता है। इसको बनाने के लिए उस समय के वास्तुकार सर एडियन लैंडसीर लुटियन की सेवाएं ली गई थीं। जिन्होंने इस इमारत का नक्शा तैयार किया था।
5- आजादी से पहले वाययराय यहीं रहते थे।
Next Story
Top