Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्या आप जानते हैं तिरंगे के बनने की कहानी

तिरंगा आज के इस रूप में पहुंचने के लिए अनेक दौरों में से गुजरा है।

क्या आप जानते हैं तिरंगे के बनने की कहानी

भारत में तिरंगा झंडे को 22 जुलाई 1974 को भारतीय संविधान सभा की बैठक के दौरान अपनाया गया था। इसके अगले महीने 15 अगस्त 1947 को भारत की आजादी का दिन मनाया गया था।

तीन रंग केसरिया, सफेद और गहरा हरा रंग का भारतीय राष्ट्रीय ध्वज भारत की शान है। भारतीय राष्‍ट्रीय ध्‍वज का विकास आज के इस रूप में पहुंचने के लिए अनेक दौरों में से गुजरा है।

महात्मा गांधी ने क्या कहा

सर्वप्रथम महात्मा गांधी ने भारत के अप्रैल, 1921 में अपने जर्नल यंग इंडिया में देश के लिए राष्ट्रीय ध्वज की जरूरत की बात की थी।

इस झंडे में प्रयोग किए गए दोनों रंगों में केसरिया रंग को हिन्दू और हरे रंग को मुस्लिम समुदाय का प्रतीक माना गया था। बाद में अन्य धर्मों के लिए सफेद रंग जोड़ा गया।

बाद में 1929 में 3 रंग के इस भारत में तिरंगा झंडे झंडे की व्याख्या गांधी जी ने इस तरह की- केसरिया रंग लोगों के बलिदान के लिए, सफेद रंग पवित्रता के लिए और हरा रंग उम्मीद के लिए। संविधान सभा में पंडित जवाहरलाल नेहरू ने 22 जुलाई 1947 में वर्तमान तिरंगे झंडे को राष्ट्रीय ध्वज घोषित किया था।

Next Story
Top