Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

किशनगंगा बांध विवादः पाकिस्तान को लगा एक और झटका, विश्व बैंक ने दी भारत के खिलाफ न जाने की नसीहत

किनगंगा बांध विवाद पर पाकिस्तान ने मामला इंटरनेशनल कोर्ट के सामने उठाया था, जिसमें भारत ने पाकिस्तान को एक निष्पक्ष एक्सपर्ट नियुक्ति का प्रस्ताव दिया था।

किशनगंगा बांध विवादः पाकिस्तान को लगा एक और झटका, विश्व बैंक ने दी भारत के खिलाफ न जाने की नसीहत

विश्व बैंक ने पाकिस्तान से किशनगंगा बांध विवाद को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय से मामले को वापस लेने के लिए कहा है और भारत के निष्पक्ष विशेषज्ञ नियुक्त करने की सलाह को मान लेने का सुझाव दिया है।

विश्व बैंक के सामने अपना पक्ष रखते हुए पाकिस्तान ने कहा कि भारत किशनगंगा बांध का निर्माण कर 1960 में हुए सिन्धु जल समझौते का उल्लंघन कर रहा है।

पाकिस्तान ने आगे कहा कि अगर भारत अपनी इस परियोजना को बंद नहीं करेगा तो पाकिस्तान में बहने वाली नदियों पर इसका बहुत बड़ा असर पड़ेगा। इसके अलावा इन नदियों का जल स्तर कम होगा और नदियों के बहने कि दिशा में बदलाव आएगा।

भारत ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि पाकिस्तान जो दलीलें दे रहा है वह सही नहीं बैठती। इसलिए एक निष्पक्ष विशेषज्ञ कि नियुक्ति की जानी चाहिए। पकिस्तान को यह डर सता रहा है कि अगर यह मामला लम्बा अटका तो भारत इतने समय में बांध का काम पूरा कर लेगा।

पाकिस्तानी मीडिया 'द डान' के रिपोर्ट्स के मुताबिक़, विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम योन्ग किम ने पाकिस्तानी सरकार से अपनी इस मांग को वापस लेने के लिए कहा है।

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान के अटॉर्नी जनरल के कार्यालय ने एक पत्र प्राप्त किया था जिसमें विश्व बैंक ने कहा की अगर इस्लामाबाद इस मामले को सुनने के लिए मध्यस्थता की स्थापना की मांग छोड़ने के लिए तैयार हो जाता है तो एक तटस्थ विशेषज्ञ की नियुक्ति की जा सकती है।

पाकिस्तान को यह डर सता रहा है की अगर यह मामला लम्बा अटका तो भारत इतने समय में बाँध का काम पूरा कर लेगा। किशनगंगा प्रोजेक्ट का उद्घाटन हाल ही में प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी नें किया था। जिस पर पाकिस्तान नें आपत्ति जताई थी लेकिन विश्व बैंक ने इस मामले में दखल देने से साफ इन्कार कर दिया था।

किशनगंगा प्रोजेक्ट का उद्घाटन हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया था। जिस पर पाकिस्तान ने आपत्ति जताई थी लेकिन विश्व बैंक ने इस मामले में दखल देने से साफ इनकार कर दिया था।

Next Story
Top