Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

किसान दिवस 2018 : किसान किसे कहा जाता है, क्या आप जानते हैं इसकी हकीकत

किसान दिवस भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती 23 दिसंबर प्रति वर्ष मनाया जाता है। क्योंकि पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह किसानों का मसीहा कहा जाता है।

किसान दिवस 2018 : किसान किसे कहा जाता है, क्या आप जानते हैं इसकी हकीकत

किसान दिवस भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती 23 दिसंबर प्रति वर्ष मनाया जाता है। क्योंकि पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह किसानों का मसीहा कहा जाता है।

चौधरी चरण सिंह ने भूमि सुधारों पर कार्य किया था और वे किसानों के सर्वमान्य नेता थे। चौधरी चरण सिंह ने यूपी के सीएम और केंद्र में वित्तमंत्री के रूप में गांव और किसानों को प्राथमिकता में रखकर बजट बनाया था।
चौधरी चरण सिंह का यह मानना था कि खेती का केंद्र किसान है और किसान के साथ कृतज्ञता के पेश आना चाहिए। किसान को उसकी मेहन का फल जरूर मिलना चाहिए।

किसान किसे कहा जाता है?

किसान उन्हें कहा जाता है को जो खेती का कार्य करते हैं। किसानों को कृषक और खेतिहर भी कहा जाता है। किसान बाकी सभी लोगों खाद्य सामग्री (खाने की चीजों) का उत्पादन करते हैं।
किसानों के द्वारा खाद्य सामग्री उत्पादन में फसले उगाना, बागों में पौधे लगाना तथा मुर्गियां या अन्य पशुओं की देखभाल करना आदि शामिल है।
आपको एक महत्वपूर्ण बात बताते चले कि कोई भी किसान खेत का मालिक हो सकता है या कृषि भूमि के मालिक द्वारा खेतों पर फसलों की देखभाल करने के लिए रखा गया मजदूर हो सकता है।

किसान दिवस का इतिहास

किसान दिवस भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के सम्मान में मनाया जाता है। चौधरी चरण सिंह का जन्म 23 दिसंबर 1902 को उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में हुआ था। चौधरी चरण सिंह के पिता चौधरी मीर सिंह था।
चौधरी चरण सिंह ने किसानों, पिछड़ों और गरीबों की राजनीति की थी। उन्होंने किसानों के लिए केंद्र सरकार में वित्तमंत्री के कार्यकाल उन्होंने किसानों और गांवों के पक्ष में बड़ा बजट भाग रखा था।
चौधरी चरण सिंह ने 28 जुलाई 1979 से 14 जनवरी 1980 तक भारत के प्रधानमंत्री के रुप में देश की सेवा की थी। चौधरी चरण सिंह ने भारत के किसानों के जीवन में सुधार के लिए कई नीतियां शुरू कीं थी।
चौधरी चरण सिंह एक सफल लेखक थे किसानों के लिए कई किताबे भी लिखी थी जो किसानों और उनकी समस्याओं पर अपने विचारों को दर्शाती हैं।
Next Story
Share it
Top