Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कारगिल शहीद की बेटी पर सरकार ने तोड़ी चुप्पी, वेंकैया-रिजिजू ने दिया जवाब

डीसीडब्लू ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त को खत लिखकर करगिल के एक शहीद की बेटी को सुरक्षा देने की मांग की है।

कारगिल शहीद की बेटी पर सरकार ने तोड़ी चुप्पी, वेंकैया-रिजिजू ने दिया जवाब
नई दिल्ली. डीयू के रामजस कॉलेज मामले में कारगिल शहीद की बेटी गुरमेहर कौर पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि वे कौन लोग हैं जो इस युवा लड़की की मानसिकता को दूषित कर रहे हैं। रक्षा क्षेत्र में सामर्थ्य रखने वाला देश दुश्मन से नहीं बल्कि इन हरकतों से हारता है। रिजिजू ने अपने ट्वीटर पर लिखा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर राष्ट्र विरोधी नारे लगाने का लाइसेंस नहीं मिलता। आप सरकार की आलोचना कर सकते हैं, लेकिन मातृभूमि को गाली नहीं दे सकते।
वहीं केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने इस मामले पर कहा कि देश में बोलने की आजादी इतनी है कि आप प्रधानमंत्री को उनके नाम से भी बुला सकते हैं। एबीवीपी एक राष्ट्रवादी संगठन है और अन्य संगठनों को भी अपने विचार जाहिर करने की आजादी है। ऐसे में किसी बाहरी को कैंपस में जाकर वहां की शांति क्यों भंग करने दी जाए...? कोई कैसे जम्मू-कश्मीर की आजादी की बात कर सकता है...? क्या आप विश्विद्यालयों को अलगाववादियों की प्रयोगशाला बनाना चाहते हैं?
किरण रिजिजू ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि किसी को ऐसी बातें नहीं बोलनी चाहिए जिससे देशवासियों और सशस्त्र बलों का मनोबल गिरे। सभी को स्वतंत्रता है लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि आप देश को कमजोर करने के लिए नारे लगाएं। आपको बता दें कि गुरमेहर के पिता कारगिल की जंग में शहीद हो हुए थे। उन्‍होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में हिंसा के बाद कैंपेन चलाया था कि वह एबीवीपी से नहीं डरती हैं। वे अकेली नहीं हैं पूरे देश के छात्र उनके साथ खड़े हैं। गुरमेहर ने बताया कि जब से वह इस कैंपेन को चला रही हैं तब से उन्‍हें दुष्कर्म की धमकियां मिल रही हैं। गुरमेहर लेडी श्रीराम कॉलेज में इंग्लिश(ऑनर्स) की पढ़ाई करती हैं।
गौरतलब है कि रामजस कॉलेज में कथित तौर पर एबीवीपी छात्रों की हिंसा के बाद कैंपेन के लिए गुरमेहर ने अपनी फेसबुक प्रोफाइल में तख्ती पकड़े हुए एक फोटो पोस्ट की है, जिस पर लिखा है कि मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ती हूं। मैं एबीवीपी से नहीं डरती। मैं अकेली नहीं हूं। भारत का हर छात्र मेरे साथ है। हैशटैग स्टूडेंट्स अगेंस्ट एबीवीपी।
वहीं इस मामले में मैसूरु से भाजपा सांसद प्रताप सिम्हा ने ट्वीट किया कि कम से कम दाउद ने देश के खिलाफ अपने कार्यो को उचित ठहराने के लिए अपने पिता के नाम का इस्तेमाल नहीं किया। सिम्हा की यह टिप्पणी ऐसे समय में सामने आई है जब गुरमेहर कौर का वक्तव्य उनके फोटे के साथ सामने आया है जिसमें उसने कहा है कि पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा। युद्ध ने उन्हें मारा। कौर के इस बयान पर चुटकी लेते हुए सिम्हा ने दाउद के चित्र के साथ एक पोस्ट जारी किया जिसमें लिखा था कि ‘‘मैंने 1993 में लोगों को नहीं मारा। बम ने उनकी जान ली।
वहीं इस मामले में कांग्रेस के अलावा आम आदमी पार्टी और माकपा ने भी इस मामले पर कडी प्रतिक्रिया व्यक्त की और मांग की कि जिन लोगों ने गुरमेहर के साथ दुष्कर्म करने की धमकी दी उनके खिलाफ 'कडी कार्रवाई' होनी चाहिए। इसके साथ ही दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्लू) ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त को खत लिखकर करगिल के एक शहीद की बेटी को सुरक्षा देने की मांग की है। करगिल शहीद की बेटी ने आज आयोग से शिकायत की थी कि उसे कथित तौर पर एबीवीपी सदस्य 'बलात्कार की धमकी' दे रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top