logo
Breaking

केरल ''लव जेहाद'' केस: SC ने पिता को दिया अगली सुनवाई में हादिया को पेश करने का निर्देश

केरल ''लव जेहाद'' मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई 27 नवबंर को होगी।

केरल

केरल 'लव जेहाद' मामले में सुप्रीम कोर्ट ने हादिया को अगली सुनवाई में पेश करने का निर्देश दिया है। यह निर्देश अदालत ने हादिया के पिता को दिया है। 27 नवबंर को ही मामले की अगली सुनवाई होगी।

यह भी पढ़ें: अनुच्छेद 35A की वैधता पर SC में सुनवाई आज, अलगाववादियों ने दी आंदोलन की धमकी

शीर्ष अदालत ने इसके साथ ही हादिया के पिता की उस मांग को खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने मामले की सुनवाई कैमरे के सामने करने को कहा था। कोर्ट ने कहा कि मामले की सुनवाई ओपन तरीके से ही होगी।

यह भी पढ़ें: 'आतंकवाद के खत्म होने से कांग्रेस परेशान है और कांग्रेस के समाप्त होने पर आतंकी'

इससे पहले मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि इस मामले में लड़की की सहमति बहुत अहम है, क्योंकि वह बालिग है। 27 नवबंर को अगली सुनवाई के दौरान लड़की का पक्ष जाना जाएगा।

यह भी पढ़ें: योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी के मदरसों में NCRT पाठ्यक्रम से होगी पढ़ाई

पूर्व की सुनवाई में केरल सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया था कि इस मामले में NIA जांच की कोई जरूरत नहीं है। अपनी दलील में केरल की सीपीआईएम सरकार ने कहा था कि प्रदेश पुलिस को जांच ऐसा कुछ नहीं मिला है, जिसके आधार पर केंद्रीय एजेंसी NIA जांच की जरूरत पड़े।

यह भी पढ़ें: 'आतंकवाद के खत्म होने से कांग्रेस परेशान है और कांग्रेस के समाप्त होने पर आतंकी'

दरअसल, यह केस एक हिंदू लड़की अखिला अशोकन को लेकर है। अखिला ने एक मुस्लिम लड़के से शादी करने के लिए इस्लाम को कबूल लिया। लेकिन, पिता का आरोप है कि लव जेहाद के नाम पर उसकी बेटी का जबरन धर्म परिवर्तन करवाया गया है।

यह भी पढ़ें: आतंकवाद के संपूर्ण खात्मे की दिशा में काम कर रही है मोदी सरकार : राजनाथ सिंह

मामले ने जब तूल पकड़ा तो पिता ने बेटी की शादी खारिज करने के लिए केरल हाईकोर्ट में अपील की। बाद में यह मामला सुप्रीम कोर्ट में गया, जहां मामले की प्रारंभिक रिपोर्ट दायर करने के लिए एनआईए जांच की मांग की गई।

खास बात यह है कि इस मामले ने अब राजनीतिक रंग ले लिया है। भाजपा ने तो इस मामले को उठाते हुए केरल की वामपंथी सरकार पर निशाना साधा है। भाजपा का कहना है कि सरकार हिंदुओं के साथ ज्यादती करने पर तुली है।

Loading...
Share it
Top