Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

केरल बनेगा शराब मुक्त प्रदेश-बंद होंगे सारे बार, सबसे ज्यादा पियक्कड़ रहते हैं यहां

यूडीएफ के इस फैसले को जल्द ही राज्य कैबिनेट मंजूरी देगी।

केरल बनेगा शराब मुक्त प्रदेश-बंद होंगे सारे बार, सबसे ज्यादा पियक्कड़ रहते हैं यहां
तिरुवनंतपुरम. गुजरात की तर्ज पर अब केरल में भी शराबबंदी व्यवस्था लागू होने जा रही है। केरल में कांग्रेस की अगुवाई वाली यूडीएफ सरकार ने राज्य को 10 साल में शराब मुक्त बनाने का प्रस्ताव रखा है। राज्य सरकार न तो नए बार लाइसेंस जारी करेगी और न ही पुराने लाइसेंस रिन्यू किए जाएंगे। साथ ही हर साल 10 प्रतिशत ठेके भी बंद किए जाएंगे।

केरल के सीएम ओमान चांडी ने एक मीटिंग के बाद कहा, 'यूडीएफ ने एकमत में यह फैसला किया है कि राज्य में शराब पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए।' यूडीएफ के इस फैसले को जल्द ही राज्य कैबिनेट मंजूरी देगी। इसके बाद केरल हाई कोर्ट को इस नीतिगत फैसले के बारे में बताया जाएगा।

इस साल अप्रैल में सरकार ने 2 स्टार फैसिलिटीज में अपग्रेड करने में नाकाम रहने वाले 418 बार बंद कर दिए थे। अब इन बारों के लाइसेंस रिन्यू नहीं किए जाएंगे। इसी तरह से 31 मार्च, 2015 के बाद दूसरे 312 बारों का लाइसेंस आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।
राज्य के 23 फाइव स्टार होटेल को ही बार का लाइसेंस दिया जाएगा। इसके अलावा राज्य सरकार ने रीटेल सेक्टर में शराब बेचने वाले आउटलेट्स को भी बंद करने का फैसला किया है। हर महीने के पहले दिन और रविवार को शराब नहीं बेची जाएगी। सरकार हर साल 10% ठेकों को बंद करेगी।

गौरतलब है कि केरल में प्रति व्यक्ति शराब की खपत की दर देश में सबसे ज्यादा है। यहां पर हर व्यक्ति 8.4 लीटर शराब पीता है, जो पंजाब के 7.9 से कहीं आगे है। खास बात यह है कि पूरे देश में प्रति व्यक्ति खराब के इस्तेमाल की दर भी 4 लीटर ही है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, और क्या कहा केरल के मुख्यमंत्री चांडी ने -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top