Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कठुआ कांड: फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट में हुए कई बड़े खुलासे, जांच टीम को मिले अहम सबूत

कठुआ गैंगरेप केस में घटनास्थल से मिले सबूतों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। दिल्ली की फॉरेंसिक लैब ने इस मामले से जुड़े सभी सबूतों की जांच की है और उसे सही बताया है।

कठुआ कांड: फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट में हुए कई बड़े खुलासे, जांच टीम को मिले अहम सबूत

कठुआ गैंगरेप केस में घटनास्थल से मिले सबूतों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। दिल्ली की फॉरेंसिक लैब ने इस मामले से जुड़े सभी सबूतों की जांच की है और उसे सही बताया है।

दिल्ली FSL की रिपोर्ट के मुताबिक, मंदिर में मिले खून के धब्बे पीड़िता के ही हैं। जांच में इस बात की पुष्टि हो जाने से ये बात तो साफ हो गई है कि 8 साल की बच्ची से मंदिर के अंदर ही रेप किया गया था।

यह भी पढ़ें- उन्नाव, कठुआ और सिद्धार्थनगर के बाद अब एटा में 9 साल की बच्ची से बलात्कार के बाद हत्या

इतना ही नहीं मंदिर से मिले बाल की लड़ि‍यों की जांच करने पर मालूम चला की उसकी DNA प्रोफाइल इस मामले के एक आरोपी शुभम सांगरा से मिलती है। दिल्ली फॉरेंसिक लैब ने अपनी यह रिपोर्ट अप्रैल के पहले हफ्ते में दे दी है।

साथ ही रिपोर्ट में इस बात की भी पुष्टि हुई है कि बच्ची के कपड़ों पर मिले खून के धब्बे उसके DNA प्रोफाइल से मैच करते हैं। दिल्ली एफएसएल ने पीड़ित बच्ची के यौनां में खून पाए जाने की बात रिपोर्ट में पुष्ट की है।

गौरतलब है कि कठुआ गैंगरेप केस की जांच कर रही जम्मू-कश्मीर पुलिस की विशेष जांच टीम (एसआईटी) को जांच में कई मुश्किलें आ रहीं थीं क्योंकि उन्हें जो सबूत मिले थे, वह आरोपियों को दोषी साबित करने के लिए पर्याप्त नहीं थे।

यह भी पढ़ें- ''बड़े लोगों के साथ सोए बिना कोई महिला रिपोर्टर या एंकर नहीं बन सकती''

बता दें कि इस मामले से जुड़े आरोपियों ने कथित तौर से कुछ स्थानीय पुलिसवालों के साथ मिलकर पीड़ित बच्ची के कपड़े धुल दिए थे, जिससे सबूत को नष्ट किया जा सके।

वहीं राज्य का फॉरेंसिक लैब भी कपड़ों पर खून के धब्बे ढूढ़ने में सफल नहीं हो पाया था, इस कारण से ही SIT आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर नहीं पा रही थी। इसके बाद जम्मू-कश्मीर के डीजीपी ने गृह मंत्रालय से मदद मांगी थी, जिससे सबूतों की जांच दिल्ली फॉरेसिंक लैब द्वारा कराई जा सके।

इसके बाद मार्च में बच्ची के कपड़े, मल और अन्य कई सबूतों सहित आरोपी पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया, शुभम सांगरा और परवेश के भी ब्लड सैम्पल जांच के लिए दिल्ली फॉरेंसिक लैब भेजे गए।

Next Story
Top