Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करुणानिधि की पत्रकारिता के आगे झुक गए थे कई दिग्गज नेता, फिर ऐसे रखा राजनीति में कदम

करुणानिधि के सफल शानदार जीवन की कहानी बेहद रोचक है। करुणानिधि ना केवल सफल राजनेता थे बल्कि पत्रकार और संपादक के तौर पर भी खूब शानदार काम किया।

करुणानिधि की पत्रकारिता के आगे झुक गए थे कई दिग्गज नेता, फिर ऐसे रखा राजनीति में कदम
X

करुणानिधि के सफल शानदार जीवन की कहानी बेहद रोचक है। करुणानिधि ना केवल सफल राजनेता थे बल्कि पत्रकार और संपादक के तौर पर भी खूब शानदार काम किया। इनके पत्रकारिता जीवन की कहानी भी काफी प्रेरणादायी है।

लोकतंत्र में पत्रकारिता की भूमिका को देखकर करुणानिधि इससे जुड़े और समाचार पत्र का काम शुरू कर दिया। पत्रकारिता में इतनी रूचि थी कि उन्होंने हाथ से लिखकर 'मानवर निशान' नाम का समाचार पत्र निकालना शुरू किया।

इसे भी पढ़ें- करुणानिधि के 80 साल बेमिसाल, राज्य से किया कांग्रेस का सफाया

पत्रकारिता के प्रति इनकी रूचि देखकर उस वक्त की शक्तिशाली पार्टी जस्टिस पार्टी के पेरियार इरोड वेंकटप्पा रामासामी और सीएन अन्नादुरई की नजर उन पर पड़ी। उन्होंने करुणानिधि को पार्टी की पत्रिका 'कुदियारासु' का संपादक बना दिया।

करुणानिधि को अपने भाषा से काफी प्रेम था। उन्होंने अपने राज्य की भाषा में फिल्म और साहित्य को लेकर काफी काम किया। इस क्षेत्र में उनका योगदान अविस्मरणीय है। इसके बाद ही इनका राजनीतिक सफर आरंभ हो गया।

इसे भी पढ़ें- चित्कार-पुकार के साथ बिलखते समर्थकों ने दी अंतिम विदाई, तस्वीरें देख छलक जाएंगे आपके भी आंसू

करुणानिधि ने हाथ से लिखकर अखबार निकाला और साबित कर दिया कि उनके लिए कुछ भी संभव है। और फिर उन्होंने 'मुरासोली' नाम का अखबार भी निकालना शुरू किया, जो बाद में द्रमुक का मुखपत्र बना।

जब वे 14 साल के थे तभी राजनीति में कूद पड़े। दरअसल, राजनीति में जुड़ने के पीछे एक कहानी है। कहा जाता है कि जस्टिस पार्टी के अलागिरीस्वामी के भाषण से प्रभावित होकर करुणानिधि ने राजनीतिक जीवन में कदम रखा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top